सोमवार, अप्रैल 05, 2010

सौ साल का नरक ...एक घंटे में..??

एक बार मीरा के ससुराल वाले उसे बुलाने आये क्योंकि ससुराल पक्ष से विभिन्न कारणों से मीरा परेशान थी और ससुराल नहीं जाना चाहती थी इसलिते भागकर रैदास जी के घर आ गयी और बोली गुरुजी जल्दी से मुझे छिपने का स्थान बता दें..मैं ससुराल नहीं जाना चाहती.. रैदास जी ने एक मरे हुये ऊँट का पिंजर सूख रहा था उसकी तरफ़ इशारा करते हुये कहा कि जाकर उसमें छुप जाओ हङबङाहट में मीरा उसमें छुप गयी..एक घन्टे बाद रैदास जी ने उससे निकल आने को कहा..बाहर निकल कर मीरा बोली कि गुरु जी आज तो आपने मार डाला बदबू के मारे मेरा जीना मुश्किल हो गया..वहाँ छुपने के लिये आपने क्यों कहा ?
रैदास जी ने कहा कि तेरा सौ साल का नरक एक घन्टे में कट गया..तब मीरा इस बात का रहस्य समझी . सभी जानते हैं कि संत रैदास जी चर्मकार कुल में हुये थे और जूते गांठने ,बनाने का कार्य करते थे और उनकी शिष्या मीरा का सम्बन्ध महलों से था . इस बात को लेकर
सब मीरा की हँसी बनाते थे और कहते थे कि तेरा गुरु जूते गांठता है . तब परेशान होकर मीरा ने एक बहुमूल्य हीरा लिया और गुरु जी से जाकर कहा कि गुरुजी आप इस हीरे को बेचकर अपनी स्थिति सुधार लें .सब लोग मेरी काफ़ी हँसी बनाते हैं मुझसे आपकी बेइज्जती बरदाश्त नहीं होती रैदास जी ने हँसकर कहा कि संतों की रहनी अलग ही होती
है उन्हें हीरे मोती से कोई मतलब नहीं होता है . इसलिये जो कहता है उसको कहने दो और तुम कोई चिन्ता न करते हुये नाम की कमाई करो . यही मनुष्य की वास्तविक दौलत है .
विशेष- एक संत ने भी रैदास जी की कमजोर आर्थिक दशा देखते हुये पन्द्रह दिन के लिये पारस पत्थर दे दिया लेकिन रैदास जी ने उसका कोई उपयोग नहीं किया .ये घटना मेरे किसी ब्लाग में आपको मिल जायेगी .
कोई तो तन मन दुखी ,कोई चित्त उदास ..एक एक दुख सभन को सुखी संत का दास
भीखा भूखा कोई नहीं सबकी गठरी लाल ..गिरह खोल न जानही ताते भये कंगाल
नीच नीच सब तर गये संत चरन लौलीन ...जातहि के अभिमान से डूबे बहुत कुलीन .

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...