रविवार, जुलाई 11, 2010

क्या है । तैतीस करोङ देवताओं का रहस्य..?

आपने देखा होगा । हिंदू धर्म का उपहास एक बात के लिये विशेष तौर पर किया जाता है । वह है । इस धर्म में तैतीस करोङ देवताओं की मान्यता होना । जिसको प्रायः अन्य धर्म वाले तैतीस करोङ भगवान भी कह देते हैं । हैरत की बात है । स्वयं बहुसंख्यक हिंदू ही इसे पाखंड या पोपलीला कहते हैं । मुझसे कुछ " पाठकों " ने पूछा भी है । कि क्या मैं तैतीस करोङ भगवानों की पूजा करता हूँ ? वास्तव में तैतीस
करोङ देवता हरेक धर्म में हैं ? कैसे ये आगे पढकर आपकी समझ में आ जायेगा । पहली बात तो यही समझिये कि भगवान और देवता में बहुत अन्तर होता है । देवता का अर्थ देने वाला है । यानी सरलता से समझने के लिये ये भगवान का वो कर्मचारी है । जिसके जिम्मे अपने विभाग को सुचार रूप से चलाना है । जैसे जल देवता । आपने किसी को जल भगवान कहते सुना है ? जैसे वायु देवता । कोई वायु भगवान
कहता है ? जैसे सूर्य देवता । यहाँ थोङा फ़र्क है । सूर्य क्योंकि बङा देवता है । इसलिये इसे शास्त्रों में तथा कई स्थानों पर रिषी मुनियों आदि ने भगवान कहा है । गायत्री उपासक भी इसको महत्व देते हैं । आपने एक चीज देखी होगी । बाजार आदि में जब कभी हमारा पाला पुलिस वाले से पङता है । तो दीवान । हवलदार कांस्टेबल से अक्सर बहुत से लोग " दरोगा जी " कह देते हैं । तो क्या वो दरोगा हो जाता है ? अब मैं उन लोगों से एक बात पूछता हूँ । जो तैतीस करोङ देवताओं का रोना रोते हैं । कहाँ होती है । तैतीस करोङ देवताओं या तैतीस करोङ भगवानों की पूजा ? आप जानते हैं । तैतीस करोङ देवता कौन से हैं ? तैतीस लाख ही बता दीजिये ? चलिये हवा खराब हो गयी । तो तैतीस हजार ही बता दीजिये ? वास्तविकता ये है । कि तैतीस देवता बताने में भी आपको पूरे अक्ल के पेच घुमाने पङेंगे ? लेकिन यह अकाटय सत्य है । कि तैतीस करोङ देवता हैं ? और केवल हिंदू नहीं मुसलमान सिख ईसाई अमेरिकन से लेकर चूहा बिल्ली और आदि मानव तक के तैतीस करोङ देवता हैं । लगता है । आपके दिमाग में परमाणु बम का विस्फ़ोट हो गया । जो भी जीव है । देहधारी है । उसका वास्ता तैतीस करोङ देवताओं से पङना ही पङना है । अब मान लो हिंदू तो तैतीस करोङ देवताओं के लिये रजिस्टर्ड हैं ही । मुसलमान या अन्य धर्म के लोग इनसे कैसे जुङते हैं । एक मोटा उदाहरण मैं आपको बताता हूँ । ज्यादातर लोग ये समझते हैं कि मुसलमान सिर्फ़ अल्लाह या खुदा के अतिरिक्त किसी को नहीं मानते ।लेकिन जो लोग मुसलमानों को थोङा करीब से जानते हैं । उन्हें बखूबी मालूम है । कि मुसलमानों में भी सूर्य ( आफ़ताब ) चन्द्रमा ( माहताब ) का उतना ही महत्व है । जितना हिंदू या अन्य जातियों में । यहाँ मजे की एक बात और विचारणीय प्रश्न ये भी हैं कि ज्यादातर मुसलमान या यहूदी या संसार का कोई भी धर्म एक बात समबेत स्वर में कहता है । कि भगवान । अल्लाह या गाड वास्तव में एक ही है । और ये सब उसी की सत्ता है । और जब वह एक ही है । और उसी की सत्ता है । तो ये तैतीस करोङ उसके कर्मचारी हैं । अब तैतीस करोङ या तैतीस लाख को छोङकर थोङी देर के लिये तैतीस भगवान ही मान लेते हैं । और एक वो जो सबका है । इस तरह ये चौतींस हो गये । अगर चौतीस महाशक्तियाँ कार्यरत होती ? तो उनका सत्ता के लिये झगङा नेताओं के झगङे को भी पीछे छोङ देता । तैतीस करोङ देवता । वास्तव में तैतीस करोङ आवृतियाँ हैं । जिनका छोटा बङा देवता नियुक्त हैं । आपको जो उल्टी आती है । इसका भी देवता है । आपको डकार आती है । आपको पाद आता है । आपको जम्हाई आती है । आपके अन्दर " काम " जागता है । आपके अन्दर संगीत प्रेम जागता है । आपको कब्ज हो जाती है । आपको बुखार आ जाता है । आपको मामूली फ़ुंसी हो जाती हैं । आप दया करते हैं । आप क्रोध करते हैं ।इन सबका एक एक देवता नियुक्त है । ऐसी सब कुल मिलाकर प्रत्येक इंसान के अन्दर तैतीस करोङ आवृतियाँ बनती हैं । जिन्हें सरल भाषा में क्रिया भी कह सकते है । आप जो हाथ फ़ैलाते और सिकोङते हैं । इतनी ही बात के दो देवता है । इस तरह प्रत्येक इंसान तैतीस करोङ देवताओं को आश्रय दे रहा है । तैतीस करोङ देवताओं की पूजा या भोग की बात कैसे प्रचलन में आयी वो भी बताता हूँ । आपने धर्म शास्त्रों में यग्य और आहुति का जिक्र पढा या सुना होगा । यग्य पंचाग्नि जलाकर किया जाता है । और आहुति भोग सामग्री की दी जाती है । यग्य का अर्थ है । इसको जानना । यानी ये शरीर जो प्राप्त है । इसका असली रहस्य क्या है ? पंचाग्नि यानी जठराग्नि । मंदाग्नि । आदि पाँच अग्नि हमारे पेट में स्वतः प्रज्वलित है । आहुति । जो भोजन हम खाते है । यह यग्य की आहुति के रूप में हमारे शरीर पर आश्रित तैतीस करोङ देवताओं का पोषण करता हैं । यानी हमारे इस भोग से उनको त्रप्ति होती है । तो कभी किसी बात पर उपाय के रूप में । या हमारे अध्यात्म ग्यान के रूप में । या शरीर । आत्मा । मन । विषयक प्रश्नों की वजह से रिषी मुनियों ने यह सत्य बताया । कि तैतीस करोङ देवताओं को भोग देने से ही हमारे सभी कार्य सुचारु रूप से होंगे । और यह एकदम सत्य बात है । और प्रत्येक जाति के इंसान के लिये है । अब मान लो । किसी को फ़ोङा हो गया । तो पहले आजकल की तरह डाक्टर तो थे नहीं । आयुर्वेद ही था ।
जो निसंदेह वैदिक ग्यान परम्परा पर आधारित है । तो पहले के वैध अपने शब्दों में इस तरह कह देते थे । कि फ़लाना देवता बिगङ गया । इसे इस विधि या उपचार के द्वारा पुष्ट कर दो । और सही बात है । आपकी किसी असाबधानी से ही कोई परेशानी पैदा होती है । तो उसका उपचार कर दो । उसको पोषण दे दो । बात खत्म । इस तरह तैतीस करोङ देवताओं की बात प्रचलन में आ गयी । पर उल्टा हो गया । कबीर ने कहा है । कि " नय्या में नदिया डूबी जाय । " इसी तरह की बातों के ऊपर कहा है ।
वास्तव में यह तैतीस करोङ देवता हमारे आश्रित है । और हम समझने लगे कि हम इनके आश्रित हैं । अगर आप इन्द्रियों से काम न लो । तो इन देवताओं को पोषण नहीं मिलेगा । तो आप विचार करें । ऐसा कौन सा धर्म या जाति है । जो खाना नहीं खाती । पानी नहीं पीती । या कामभोग नहीं करती । या शरीर की अन्य क्रियायें नहीं करती । और यदि करती है । तो उसका सम्बन्ध तैतीस करोङ देवताओं से निश्चय ही है । लेकिन वास्तव में यह सिर्फ़ हिंदू धर्म नहीं है । बल्कि ये सनातन धर्म है । सना तन यानी शरीर से लिपटा या ओत प्रोत धर्म । और शरीर तो सभी का एक जैसा ही है । या अलग अलग है ?
इस तरह कुल तैतीस करोङ देवता है । जिनमें तैतीस प्रमुख हैं । ये तैतीस कौन हैं । शरीर की पच्चीस प्रकृतियों के पच्चीस देवता । शरीर के पाँच तत्व के पाँच देवता । जल । वायु । अग्नि । प्रथ्वी ।आकाश । इस प्रकार ये तीस हो गये । शेष तीन देवता । इन तैतीस में भी प्रमुख हैं । ये ब्रह्मा ( रजोगुण ) विष्णु ( सतोगुण ) शंकर ( तमोगुण ) हैं । सभी जानते हैं कि ये सृष्टि तीन गुणों पर कार्य करती हैं ।
तो इस तरह कौन सा ऐसा जीव है ? कौन सा ऐसा मनुष्य है ? कौन सी ऐसी जाति ? धर्म हैं जिसमें तैतीस करोङ देवता नहीं हैं ? पच्चीस प्रकृतियों और पाँच तत्वों के बारे में अधिक जानने के लिये अन्य लेख पढें ।
" जाकी रही भावना जैसी । हरि मूरत देखी तिन तैसी । " " सुखी मीन जहाँ नीर अगाधा । जिम हरि शरण न एक हू बाधा । " विशेष--अगर आप किसी प्रकार की साधना कर रहे हैं । और साधना मार्ग में कोई परेशानी आ रही है । या फ़िर आपके सामने कोई ऐसा प्रश्न है । जिसका उत्तर आपको न मिला हो । या आप किसी विशेष उद्देश्य हेतु
कोई साधना करना चाहते हैं । और आपको ऐसा लगता है कि यहाँ आपके प्रश्नों का उत्तर मिल सकता है । तो आप निसंकोच सम्पर्क कर सकते हैं ।

3 टिप्‍पणियां:

vinay ने कहा…

जय गूरूदेव की
अब समझ में आया है,तैतीस करोड़ देवताओं का रहस्य ।

vijay ने कहा…

wah .......... bahut sundar.............alokik vijay banjaria

vijay ने कहा…

sundartam

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...