सोमवार, अगस्त 09, 2010

सृष्टि का रहस्य..2

जब महाप्रभु उन सम्बन्ध रहित तत्वों में प्रविष्ट हुये । इससे उनमें क्षोभ उत्पन्न हुआ । सबसे पहले भगवान ने हिरण्यात्मक ब्रह्माण्ड बनाया । जो पचास करोड योजन में ( एक योजन बारह किलोमीटर के बराबर होता है । ) फ़ैला हुआ था । उसके ऊपर अवस्थित अत्यन्त सूक्ष्म भाग भी उतने ही विस्तार में फ़ैला हुआ था । जितने में उस हिरण्मय अण्ड का विस्तार था । उसके भी ऊपर पचास करोड योजन भूतल था । यह सात आवरणों द्वारा चारों ओर परिधि से घिरा हुआ था । पहले आवरण का नाम कबन्ध है । दूसरा आवरण
अग्निदेव का है । तीसरा आवरण महात्मा हर का है । चौथा आवरण आकाश का है । पांचवा आवरण अहंकार का है । छठा आवरण महतत्व का है । सातवां आवरण त्रिगुणात्मक है । इसके बाद अव्याकृत आकाश है । इसके विस्तार की कोई सीमा नहीं है । इसी मण्डल के मध्य अव्यय हरि हरि रहते हैं । आठवां आवरण आकाश का है । इसके मध्य में विरजा नदी है । इसका विस्तार पांच योजन का है । विरजा नदी में स्नान करके लिंग देह का परित्याग करके हरि के मोक्ष पद की प्राप्ति होती है । प्रारब्ध कर्म क्षय हो जाने पर ही विरजा में स्नान सम्भव होता है । इस विरजा नदी का प्रलय में भी लय नहीं होता । ये लक्ष्मी स्वरूप है । क्योंकि ये प्राणी के लिंग स्वरूप का नाश करती है । विरजा नदी के बाद व्याकृत आकाश है । जो निःसीम है । इसकी अभिमानी देवता लक्ष्मी है । सृष्टि के समय़ ब्रह्माण्ड के अभिमानी देवता ब्रह्मा थे । जो विराट कहे गये । इस प्रकार ब्रह्माण्ड आदि का सृजन करके हरि उन तत्वाभिमानी देवताओं के साथ उस ब्रह्माण्ड के ऊपर नीचे सर्वत्र व्याप्त होकर नित्य स्थित रहते हैं । इसको प्राकृत सृष्टि है । अव्यक्त आदि से लेकर प्रथ्वी तक के जो भी तत्व इस अण्ड रूप जगत में बाह्य रूप से उत्पन्न हुये हैं । ये सभी प्राकृत सृष्ट कहे जाते हैं । और ब्रह्माण्ड तथा ब्रह्माण्डान्तवर्ती सृष्टि वैकृत सृष्टि कही जाती है । जिन्हें पुरुष कहते हैं । वे हरि हैं । उन हरि ने उस हिरण्मय अण्ड के मध्य जलराशि में एक हजार वर्ष तक शयन किया । उस समय लक्ष्मी जल रूप में थी । शय्या रूप विध्या थी । तरंग रूप वायु थे । और तम ही निद्रा रूप था । इसके अतिरिक्त वहां कोई नहीं था । उसी उदक के मध्य भगवान नारायण योगनिद्रा में स्थित थे । उस समय लक्ष्मी ने उनकी स्तुति की । हरि की प्रकृति ही उस समय लक्ष्मी और धरा या भू देवी का रूप धारण कर लेती है ।
और शेष वेद रूप धारण करके उन सोये हरि की स्तुति करते हैं । फ़िर वे महाविष्णु निद्रा का परित्यागकर प्रबुद्ध हो उठे । उस समय उनकी नाभि से सम्पूर्ण जगत का आश्रय भूत हिरण्मय पद्म प्रादुर्भूत हुआ । इसे प्राकृत सृष्टि के रूप में समझना चाहिये । उस सृष्टि की अभिमानी देवता भूदेवी थी । यह पद्म असंख्य सूर्य के समान प्रकाशवान है । चिदानन्दमय विष्णु उससे भिन्न हैं । इसे भगवान का किरीट आदि आभूषण समझना चाहिये । हरि के किरीट आदि भी दो प्रकार के हैं । एक स्वरूप भूत । दूसरा स्वरूप भिन्न । उस हिरण्मय पद्म से सभी लोकों के विधायक ब्रह्माण्ड की सृष्टि हुयी । उस पद्म से चतुर्मुख ब्रह्मा हुये । किसने मुझे बनाया ? वे प्रभु कौन है ? ऐसी जिग्यासा से ब्रह्मा उस पद्म के नाल में प्रविष्ट हो गये । किन्तु अग्यानवश होने से कुछ जान न सके । उस समय उन्हें तप तप ये दो शब्द सुनाई दिये । तब ब्रह्मा ने हरि की एक हजार दिव्य वर्ष तक तपस्या की । तब भगवान प्रसन्न होकर प्रकट हो गये । और ब्रह्मा द्वारा स्तुति के बाद कहा । हे ब्रह्मन ।मेरे प्रसाद से इन देवताओं की वैसी ही सृष्टि आप करें । जिस प्रकार पूर्वकाल में आपने की थी । हालांकि आपके लिये इसका कोई प्रयोजन नहीं हैं । फ़िर भी मेरी प्रसन्नता के लिये आप करें । तब महत्वात्मक ब्रह्मा ने सर्वप्रथम जीव के अभिमानी देवता वायु की सृष्टि की । इस तरह वायु सृष्टि का प्रथम पुरुषात्मा है । तब ब्रह्मा ने अपने दाहिने हाथ से ब्रह्माणी और भारती इन दो देवियों की सृष्टि की । बायें हाथ से सत्य के पुत्र महतत्वात्मक अनल को ( अग्नि ) उत्पन्न किया । दाहिने हाथ से ही अहंकारात्मक
हर की सृष्टि हुयी । इसी प्रकार शेष वायु गायत्री वारुणी सौपर्णी चन्द्र इन्द्र कामदेव आदि इन्द्रियों के अभिमानी देवताओं । तथा मनु शतरूपा दक्ष नारद आदि ऋषि । कश्यप अदिति वसिष्ठ आदि ब्रह्म ग्यानी ऋषि । कुबेर विष्ववक्सेन आदि की देव सृष्टि हुयी ।

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...