शनिवार, अगस्त 21, 2010

RAKESH LAL जी का एक लम्बा जबाब


लेखकीय - परमात्मा ने सृष्टि का निर्माण क्यों किया ???? इस लेख का एक लम्बा जबाब श्री RAKESH LAL जी @ blogger @ world of god ने बाइबिल के अनुसार दिया । धन्यवाद । राकेश जी । 16comments के इस जबाब को पाठकों की सुविधा हेतु लेख के रूप में प्रकाशित कर रहा हूं । इस लेख के साथ प्रकाशित राकेश जी का चित्र तथा प्रभु ईसामसीह का चित्र भी राकेश जी के blog का है ।
RAKESH LAL पोस्ट " परमात्मा ने सृष्टि का निर्माण क्यों किया ???? " पर
n the beginning was the Word, and the Word was with God, and the Word was God. The same was in the beginning with God. All things were made by him; and without him was not any thing made that was made. In him was life; and the life was the light of men. And the light shineth in darkness; and the darkness comprehended it not. He was in the world, and the world was made by him, and the world knew him not. He came unto his own, and his own received him not.But as many as received him, to them gave he power to become the sons of God, even to them that believe on his name: Jesus saith unto him, I am the way, the truth, and the life: no man cometh unto the Father, but by me. (John14:6)Enter ye in at the strait gate: for wide is the gate, and broad is the way, that leadeth to destruction, and many there be which go in thereat:(Matthew 7:13)For what shall it profit a man, if he shall gain the whole world, and lose his own soul? (Mark 8:36)
JESUS SAIDMatthew 10:28And fear not them which kill the body, but are not able to kill the soul: but rather fear him which is able to destroy both soul and body in hell.
JESUS SAIDCome unto me, all ye that labour and are heavy laden, and I will give you rest. (Matthew 11:28)
Matthew 13:49So shall it be at the end of the world: the angels shall come forth, and sever the wicked from among the just,And shall cast them into the furnace of fire: there shall be wailing and gnashing of teeth. Jesus saith unto them, Have ye understood all these things? They say unto him, Yea, Lord.
Matthew 16:24Then said Jesus unto his disciples, If any man will come after me, let him deny himself, and take up his cross, and follow me.Matthew 16:26For what is a man profited, if he shall gain the whole world, and lose his own soul? or what shall a man give in exchange for his soul?Matthew 16:27For the Son of man shall come in the glory of his Father with his angels; and then he shall reward every man according to his works.
Matthew 18:11For the Son of man is come to save that which was lost.Matthew 18:12How think ye? if a man have an hundred sheep, and one of them be gone astray, doth he not leave the ninety and nine, and goeth into the mountains, and seeketh that which is gone astray?Matthew 18:13And if so be that he find it, verily I say unto you, he rejoiceth more of that sheep, than of the ninety and nine which went not astray.--Matthew 18:14Even so it is not the will of your Father which is in heaven, that one of these little ones should perish.
Matthew 19:16And, behold, one came and said unto him, Good Master, what good thing shall I do, that I may have eternal life?Matthew 19:17And he said unto him, Why callest thou me good? there is none good but one, that is, God: but if thou wilt enter into life, keep the commandments.Matthew 19:18He saith unto him, Which? Jesus said, Thou shalt do no murder, Thou shalt not commit adultery, Thou shalt not steal, Thou shalt not bear false witness,Matthew 19:19Honour thy father and thy mother: and, Thou shalt love thy neighbour as thyself.
JESUS SAIDEven as the Son of man came not to be ministered unto, but to minister, and to give his life a ransom for many. (Matthew 20:28)
Matthew 19:16And, behold, one came and said unto him, Good Master, what good thing shall I do, that I may have eternal life?Matthew 19:17And he said unto him, Why callest thou me good? there is none good but one, that is, God: but if thou wilt enter into life, keep the commandments.Matthew 19:18He saith unto him, Which? Jesus said, Thou shalt do no murder, Thou shalt not commit adultery, Thou shalt not steal, Thou shalt not bear false witness,Matthew 19:19Honour thy father and thy mother: and, Thou shalt love thy neighbour as thyself.
Matthew 25:31When the Son of man shall come in his glory, and all the holy angels with him, then shall he sit upon the throne of his glory:Matthew 25:32And before him shall be gathered all nations: and he shall separate them one from another, as a shepherd divideth his sheep from the goats:Matthew 25:33And he shall set the sheep on his right hand, but the goats on the left.Matthew 25:34Then shall the King say unto them on his right hand, Come, ye blessed of my Father, inherit the kingdom prepared for you from the foundation of the world:Matthew 25:35For I was an hungred, and ye gave me meat: I was thirsty, and ye gave me drink: I was a stranger, and ye took me in:Matthew 25:36Naked, and ye clothed me: I was sick, and ye visited me: I was in prison, and ye came unto me.Matthew 25:37Then shall the righteous answer him, saying, Lord, when saw we thee an hungred, and fed thee? or thirsty, and gave thee drink?Matthew 25:38When saw we thee a stranger, and took thee in? or naked, and clothed thee?Matthew 25:39Or when saw we thee sick, or in prison, and came unto thee?Matthew 25:40And the King shall answer and say unto them, Verily I say unto you, Inasmuch as ye have done it unto one of the least of these my brethren, ye have done it unto me.Matthew 25:41Then shall he say also unto them on the left hand, Depart from me, ye cursed, into everlasting fire, prepared for the devil and his angels:Matthew 25:42For I was an hungred, and ye gave me no meat: I was thirsty, and ye gave me no drink:Matthew 25:43I was a stranger, and ye took me not in: naked, and ye clothed me not: sick, and in prison, and ye visited me not.Matthew 25:44Then shall they also answer him, saying, Lord, when saw we thee an hungred, or athirst, or a stranger, or naked, or sick, or in prison, and did not minister unto thee?Matthew 25:45Then shall he answer them, saying, Verily I say unto you, Inasmuch as ye did it not to one of the least of these, ye did it not to me.Matthew 25:46And these shall go away into everlasting punishment: but the righteous into life eternal.
Hosea 4:6My people are destroyed for lack of knowledge:
Genesis 3:1Now the serpent was more subtil than any beast of the field which the LORD God had made. And he said unto the woman, Yea, hath God said, Ye shall not eat of every tree of the garden?Genesis 3:2And the woman said unto the serpent, We may eat of the fruit of the trees of the garden:Genesis 3:3But of the fruit of the tree which is in the midst of the garden, God hath said, Ye shall not eat of it, neither shall ye touch it, lest ye die.Genesis 3:4And the serpent said unto the woman, Ye shall not surely die:Genesis 3:5For God doth know that in the day ye eat thereof, then your eyes shall be opened, and ye shall be as gods, knowing good and evil.Genesis 3:6And when the woman saw that the tree was good for food, and that it was pleasant to the eyes, and a tree to be desired to make one wise, she took of the fruit thereof, and did eat, and gave also unto her husband with her; and he did eat.Genesis 3:7And the eyes of them both were opened, and they knew that they were naked; and they sewed fig leaves together, and made themselves aprons.Genesis 3:8And they heard the voice of the LORD God walking in the garden in the cool of the day: and Adam and his wife hid themselves from the presence of the LORD God amongst the trees of the garden.Genesis 3:9And the LORD God called unto Adam, and said unto him, Where art thou?
Genesis 3:1Now the serpent was more subtil than any beast of the field which the LORD God had made. And he said unto the woman, Yea, hath God said, Ye shall not eat of every tree of the garden?Genesis 3:2And the woman said unto the serpent, We may eat of the fruit of the trees of the garden:Genesis 3:3But of the fruit of the tree which is in the midst of the garden, God hath said, Ye shall not eat of it, neither shall ye touch it, lest ye die.Genesis 3:4And the serpent said unto the woman, Ye shall not surely die:Genesis 3:5For God doth know that in the day ye eat thereof, then your eyes shall be opened, and ye shall be as gods, knowing good and evil.Genesis 3:6And when the woman saw that the tree was good for food, and that it was pleasant to the eyes, and a tree to be desired to make one wise, she took of the fruit thereof, and did eat, and gave also unto her husband with her; and he did eat.Genesis 3:7And the eyes of them both were opened, and they knew that they were naked; and they sewed fig leaves together, and made themselves aprons.Genesis 3:8And they heard the voice of the LORD God walking in the garden in the cool of the day: and Adam and his wife hid themselves from the presence of the LORD God amongst the trees of the garden.Genesis 3:9And the LORD God called unto Adam, and said unto him, Where art thou?Genesis 3:10And he said, I heard thy voice in the garden, and I was afraid, because I was naked; and I hid myself.Genesis 3:11And he said, Who told thee that thou wast naked? Hast thou eaten of the tree, whereof I commanded thee that thou shouldest not eat?Genesis 3:12And the man said, The woman whom thou gavest to be with me, she gave me of the tree, and I did eat.Genesis 3:13And the LORD God said unto the woman, What is this that thou hast done? And the woman said, The serpent beguiled me, and I did eat.Genesis 3:14And the LORD God said unto the serpent, Because thou hast done this, thou art cursed above all cattle, and above every beast of the field; upon thy belly shalt thou go, and dust shalt thou eat all the days of thy life:Genesis 3:15And I will put enmity between thee and the woman, and between thy seed and her seed; it shall bruise thy head, and thou shalt bruise his heel.Genesis 3:16Unto the woman he said, I will greatly multiply thy sorrow and thy conception; in sorrow thou shalt bring forth children; and thy desire shall be to thy husband, and he shall rule over thee.Genesis 3:17And unto Adam he said, Because thou hast hearkened unto the voice of thy wife, and hast eaten of the tree, of which I commanded thee, saying, Thou shalt not eat of it: cursed is the ground for thy sake; in sorrow shalt thou eat of it all the days of thy life;Genesis 3:18Thorns also and thistles shall it bring forth to thee; and thou shalt eat the herb of the field;Genesis 3:19In the sweat of thy face shalt thou eat bread, till thou return unto the ground; for out of it wast thou taken: for dust thou art, and unto dust shalt thou return.
Genesis 3:1Now the serpent was more subtil than any beast of the field which the LORD God had made. And he said unto the woman, Yea, hath God said, Ye shall not eat of every tree of the garden?Genesis 3:2And the woman said unto the serpent, We may eat of the fruit of the trees of the garden:Genesis 3:3But of the fruit of the tree which is in the midst of the garden, God hath said, Ye shall not eat of it, neither shall ye touch it, lest ye die.Genesis 3:4And the serpent said unto the woman, Ye shall not surely die:Genesis 3:5For God doth know that in the day ye eat thereof, then your eyes shall be opened, and ye shall be as gods, knowing good and evil.Genesis 3:6And when the woman saw that the tree was good for food, and that it was pleasant to the eyes, and a tree to be desired to make one wise, she took of the fruit thereof, and did eat, and gave also unto her husband with her; and he did eat.Genesis 3:7And the eyes of them both were opened, and they knew that they were naked; and they sewed fig leaves together, and made themselves aprons.Genesis 3:8And they heard the voice of the LORD God walking in the garden in the cool of the day: and Adam and his wife hid themselves from the presence of the LORD God amongst the trees of the garden.Genesis 3:9And the LORD God called unto Adam, and said unto him, Where art thou?Genesis 3:10And he said, I heard thy voice in the garden, and I was afraid, because I was naked; and I hid myself.Genesis 3:11And he said, Who told thee that thou wast naked? Hast thou eaten of the tree, whereof I commanded thee that thou shouldest not eat?Genesis 3:12And the man said, The woman whom thou gavest to be with me, she gave me of the tree, and I did eat.Genesis 3:13And the LORD God said unto the woman, What is this that thou hast done? And the woman said, The serpent beguiled me, and I did eat.Genesis 3:14And the LORD God said unto the serpent, Because thou hast done this, thou art cursed above all cattle, and above every beast of the field; upon thy belly shalt thou go, and dust shalt thou eat all the days of thy life:Genesis 3:15And I will put enmity between thee and the woman, and between thy seed and her seed; it shall bruise thy head, and thou shalt bruise his heel.Genesis 3:16Unto the woman he said, I will greatly multiply thy sorrow and thy conception; in sorrow thou shalt bring forth children; and thy desire shall be to thy husband, and he shall rule over thee.Genesis 3:17And unto Adam he said, Because thou hast hearkened unto the voice of thy wife, and hast eaten of the tree, of which I commanded thee, saying, Thou shalt not eat of it: cursed is the ground for thy sake; in sorrow shalt thou eat of it all the days of thy life;Genesis 3:18Thorns also and thistles shall it bring forth to thee; and thou shalt eat the herb of the field;Genesis 3:19In the sweat of thy face shalt thou eat bread, till thou return unto the ground; for out of it wast thou taken: for dust thou art, and unto dust shalt thou return.
Genesis 3:10And he said, I heard thy voice in the garden, and I was afraid, because I was naked; and I hid myself.Genesis 3:11And he said, Who told thee that thou wast naked? Hast thou eaten of the tree, whereof I commanded thee that thou shouldest not eat?Genesis 3:12And the man said, The woman whom thou gavest to be with me, she gave me of the tree, and I did eat.Genesis 3:13And the LORD God said unto the woman, What is this that thou hast done? And the woman said, The serpent beguiled me, and I did eat.Genesis 3:14And the LORD God said unto the serpent, Because thou hast done this, thou art cursed above all cattle, and above every beast of the field; upon thy belly shalt thou go, and dust shalt thou eat all the days of thy life:Genesis 3:15And I will put enmity between thee and the woman, and between thy seed and her seed; it shall bruise thy head, and thou shalt bruise his heel.Genesis 3:16Unto the woman he said, I will greatly multiply thy sorrow and thy conception; in sorrow thou shalt bring forth children; and thy desire shall be to thy husband, and he shall rule over thee.Genesis 3:17And unto Adam he said, Because thou hast hearkened unto the voice of thy wife, and hast eaten of the tree, of which I commanded thee, saying, Thou shalt not eat of it: cursed is the ground for thy sake; in sorrow shalt thou eat of it all the days of thy life;Genesis 3:18Thorns also and thistles shall it bring forth to thee; and thou shalt eat the herb of the field;Genesis 3:19In the sweat of thy face shalt thou eat bread, till thou return unto the ground; for out of it wast thou taken: for dust thou art, and unto dust shalt thou return.

बुधवार, अगस्त 18, 2010

मन्त्र काम क्यों नहीं करता..? 1


कल 16 अगस्त 2010 को मुझे दो लोगों से बात करने का अनोखा अनुभव हुआ । इसमें पहली बात सेलफ़ोन द्वारा एक बहुत चालाक और रहस्यमय लडके से हुयी । जिसने सेलफ़ोन पर ही इंटरनेट के द्वारा मेरे लेखों को पढा होगा । लडका बातचीत और स्वर से किशोर और बेहद चालाक मालूम होता था । मेरे बहुत पूछने पर भी उसने अपने बारे में नहीं बताया । खैर ये लडका चुपचाप किसी प्रेत पूजा में लगा हुआ था । और अपने इष्ट को प्रेतराज कहता था । उसका कहना था कि उसे दर्शन क्यों नहीं रहे ? वह जल्दी से प्रेत को सिद्ध कर अपने कार्य पूरा करना चाहता था ? मैंने इसे बहुत समझाने की कोशिश की । कि तुम गलत मार्ग पर हो । और साधनाओं द्वारा ही कुछ हासिल करना चाहते हो । तो सात्विक और प्रभु भक्ति की साधना करो । जिससे हमेशा कल्याण ही होता है । और जिसमें फ़ायदा नहीं । तो कोई नुकसान तो हरगिज नहीं होता । और सबसे बडी बात ये है कि जब तक इंसान किसी साधना हेतु समझ के स्तर पर पूरी तरह से परिपक्व न हो जाय । उसे साधना नहीं करनी चाहिये । हां साधारण भक्ति एक साल का बालक भी करे तो वह अच्छा ही परिणाम देगी । मैंने उसे बहुत समझाने की कोशिश की । पर वो नहीं माना । मैं जानता था । वो इतना आग्रह क्यों कर रहा है । वो एक ऐसे क्षेत्र में रहता था । जहां ओझा तान्त्रिक जैसे लोगों का गढ था । उसकी फ़ोन कनेक्टिविटी और बोलने का अन्दाज एक रहस्यमय वातावरण का अहसास दे रहे थे । पर वो मेरे पीछे इस लिये पडा हुआ था । कि मेरी प्रेत कहानियों में जिस तरह का विवरण है । वो उसे बेहद आकर्षित कर रहा था । प्रेतनी का मायाजाल 1 से प्रेतनी का मायाजाल 8 तक । लेकिन अभी वो ये नही जानता था कि इस स्तर की साधना करने में इंसान को क्या क्या त्याग करना पडता है ? और क्या क्या पापड बेलने पडते हैं ? खैर मैंने कहा । तामसिक साधनाओं में मैं आपकी कोई मदद नहीं कर सकता । हां यदि तुम किसी प्रेत पीडा या अनोखे चक्रव्यूह में फ़ंसे हुये हो । तो तुम्हारी कोई मदद की जा सकती है । और तब जैसी कि अपेक्षा थी । उसने फ़ोन काट दिया ।
16 अगस्त 2010 का दिन ही शायद मेरे लिये अजीव था । शाम के समय मीनाक्षी निगम ( बदला हुआ नाम ) से मेरी मुलाकात हुयी । और मुझे मीनाक्षी को देखकर बेहद आश्चर्य हुआ । हालांकि तन्त्र मन्त्र के क्षेत्र में महिला का होना कोई आश्चर्य की बात नहीं थी । हजारों उन्मुक्त महिलायें इस क्षेत्र में मेरे अनुभव में आयी हैं । लेकिन वे अधिकांश घर से अलग हो चुकी होती हैं । और योगिनी या बाई जैसा जीवन जी रही होती हैं । पर मीनाक्षी एक शिक्षित परिवार की और स्वयं भी शिक्षित महिला थी । मुझे आश्चर्य इस बात का था कि उसकी रुचि मारण । मोहन । वशीकरण । हंडिया । शवसाधना । मुठकरनी । जैसी घोर तामसिक और दूसरे को कष्ट और नुकसान पहुंचाने वाली साधनाओं में बडे तीव्र स्तर पर थी । मैंने उसके बारे में और जानने के लिये प्रत्यक्ष एकदम मना नहीं किया कि मैं आपकी कोई सहायता नहीं कर सकता । मीनाक्षी के कामुक हावभाव देखकर मुझे पूर्वोत्तर क्षेत्र के उन आठ नौ जोगियों की याद आ गयी । जो शहर के बाहर एक शमशान के पास रहते थे । और भूत आदि का इलाज । औरत के बच्चा न होने जैसी कुछ बातों का इलाज करते थे । रात को दस ग्यारह बजे तक भटकी हुयी । भृमित हुयी औरतें उनके पास पहुंचती थी । इन औरतों को माध्यम होकर ले जाने वाली वे औरतें होती थी । जो कामवासना के मामले में कुन्ठित होकर इनके जाल में फ़ंस गयी होती थी । जहां वे जोगी उनको परसाद के नाम पर पेडे आदि में नशीला दृव्य खिलाकर एक तरह से ग्रुप सेक्स करते थे । और फ़िर भारतीय समाज के लिये ग्रुप सेक्स प्रायः दुर्लभ होने के कारण उनको इस नये अनुभव का चसका पड जाता था । और इस तरह उन ढोंगी साधुओं के पास जाने वालों की एक चेन सी आटोमेटिक ही बन जाती थी । इसके बाद ये जोगी कुछ महिलाओं को गांजा चरस स्मैक जैसे नशीले पदार्थों की लत लगा देते थे । और फ़िर नशे और सेक्स का एक नया खेल शुरू हो जाता । मीनाक्षी को देखकर मुझे ये बात इसलिये याद आयी कि दरअसल मीनाक्षी वही सेक्स का पत्ता इशारों में फ़ेंक रही थी । यानी मैं उसका मार्गदर्शन करूं । और वह मुझे इसकी मनचाही कीमत दे ।
मैंने कहा । तुम्हारी परेशानी क्या है ? उसने कहा । मैं कई बार लाख की संख्या में मन्त्र जाप कर चुकी हूं । मैंने
यहां पर ....ये क्रिया की ? मैंने शमशान में ये .....साधना की । मैंने उस पर ये तन्त्र....चलाया । जो कुछ हद तक चला भी...आदि ? तो मेरी ये मेहनत सफ़ल क्यों नहीं होती ? मेरे मन्त्र सिद्ध क्यों नहीं होते ? मेरे मन्त्र एक्टिव क्यों नहीं होते ? मैं मीनाक्षी की और देखकर रहस्यमय अन्दाज में मुस्कराया । क्रमशः

मंगलवार, अगस्त 17, 2010

मन्त्र काम क्यों नहीं करता..? 2


फ़िर जैसा कि मुझसे अपेक्षित था । मैंने मीनाक्षी से कहा । आपको मेरे बारे में किसी ने गलत जानकारी दी
है । मैं साधारण स्तर का एक छोटा सा भक्त हूं । और तन्त्र मन्त्र आदि के सम्बन्ध में मुझे कोई जानकारी नहीं हैं । और आप जिस तरह का ग्यान पूछ रहीं हैं । उस तरह का तो मैं हरगिज नहीं जानता । हां यदि मुक्ति मोक्ष । आत्म ग्यान के सम्बन्ध में कोई रुचि रखती हों । तो मैं आपके सवालों का उत्तर दे सकता हूं । आप कुन्डलिनी के बारे में बात करना चाहें । तो उसमें भी बात हो सकती है । पर जिन विषयों का आप जिक्र कर रहीं हैं । उनके लिये वैरी सारी । तब उसने कहा कि मैं मन्त्र को सही तरह से एक्टिव करने का तरीका ही बता दूं । या सिखा दूं । और एक बार फ़िर उसने जबरदस्त काम अस्त्र चलाया । मैंने कहा । मैडम अगर में जानता होता । तो क्या पागल था । जो इस कीमत पर नहीं देता ? और अंत में मुझे पागल ही समझकर वो चली गयी । वास्तविक बात ये है । कि मन्त्र को एक्टिव करना । और उससे काम लेना लोग बहुत छोटी बात समझते हैं । आईये देखें । एक मन्त्र कैसे सिद्ध होता है । इस तरीके को मेरे द्वारा खोलने का एक ही कारण है कि मीनाक्षी जैसे तमाम लोग जो अपना समय और जिन्दगी न सिर्फ़ बरबाद करते हैं । बल्कि एक घिनौने चक्रव्यूह में फ़ंस जाते हैं । वो इससे कुछ सबक ले सकते हैं कि ये इतनी आसान जलेबी नहीं है । लेकिन जो तीसमारखां हैं । और जिन्होंने ठान ही लिया है । कि वे मन्त्र तन्त्र को सिद्ध करके ही मानेंगे । उनके परिणाम उनके तरीके । लगन । और अन्य चीजों पर निर्भर होते हैं । जिसके लिये वे खुद ही जिम्मेदार होते हैं । किसी भी मन्त्र आदि विशेष पूजा में साधक को सबसे पहले । ॐ नमः । आदि से परमात्मा का भावपूर्ण स्मरण करना होता है । अब यहीं पर मुश्किल ये है कि ये ॐ क्या है । उसका भाव क्या है । ये बडे बडे तुर्रम खां नहीं जानते । ये मेरा निजी अनुभव है । लिहाजा गाडी स्टार्ट होने से पहले ही घुर्र घुर्र कर के रह जाती है । इसके बाद । यं । रं । वं । लम आदि बीज मन्त्रों से शरीर की शुद्धि की जाती है । दुष्ट शक्तियां अनुष्ठान के मध्य बाधा न डालें इसलिये शरीर रक्षा कवच और स्थान को भी बहुत बार बांधना अनिवार्य होता है । इसके बाद एक अलग मन्त्र के द्वारा अपने साधक स्वरूप का विशेष ध्यान करना होता है । इसके बाद करन्यास और फ़िर देहन्यास करना होता है । फ़िर अलग अलग मन्त्र की आवश्यकताओं के अनुसार ह्रदय में योगपीठ पूजा आदि का विधान है । जिसमें कम से कम बीस तीस लाइनों के अलग अलग देवताओं के मन्त्र सही उच्चारण और भावपूर्ण ढंग से मन में बोलने होते हैं । इसके बाद कर्णिका के मध्य में किसी बडे मन्त्र जो स्थिति के अनुसार अलग अलग होता है । ह्रदयादिन्यास किया जाता है । इसमें भी कम से कम दस लाइन का मन्त्र होता है । इसके बाद विष्णु आदि देवता के वाहन और आयुध को नमस्कार करते हैं । और इन सबमें आठ दस लाइन के मन्त्र होते हैं । फ़िर बीज मन्त्रों से इन्द्र आदि दिक्पाल को नमस्कार करते हैं । ये भी आठ लाइन के मन्त्र हो गये । फ़िर इनके भी आयुधों को प्रणाम करने का नियम है । इसके बाद भगवान अनन्त । ब्रह्मदेव । वासुदेव । पुन्डरीकाक्ष । आदि को प्रणाम किया जाता है । जो एक लम्बी प्रक्रिया है । इसके बाद अग्नि आदि की स्थापना द्वारा हवन करके । तब मन्त्र पर कई प्रक्रियाओं से गुजरने के बाद आ पाते हैं । दूसरे इसमें नियम और शुद्धता आदि का बहुत ख्याल रखना पडता है । फ़िर इसमें किसी का आवाह्न । स्वास्तिक मण्डल । सर्वतोभद्र मण्डल जैसे तमाम ठठाकर्म होते है । कोण का ध्यान रखो । मुहूर्त का ध्यान रखो आदि ऐसी कई बातें हैं । जो आज के कलियुगी माहौल में मेरे हिसाब से तो हरेक के लिये सम्भव ही नहीं है । पहले अन्य युगों में ये चीजें गुरुकुल शिक्षा पद्धित में बचपन से सिखाई जाती थी । अतः किसी सिद्धि आदि के लिये वो साधक उन्हें फ़टाफ़ट करता जाता था । पहले संस्कृत भाषा आम प्रचलन में थी । और ज्यादातर मन्त्र संस्कृत में ही होते हैं । आजकल हम बचपन से अंग्रेजी सीखते हैं । त्याग प्रवृति की जगह उपभोक्तावाद संस्कृति में जी रहे हैं । ब्रह्मचर्य की जगह free sex में जी रहे है । भक्ति पूजा की जगह पेट पूजा नोट पूजा हमारी आदत है । संस्कृत में शब्द परस्पर हार में फ़ूलों की तरह गुथे होते है । जबकि आजकल बोली जाने वाली भाषायें अलग अलग शब्दों से वाक्य बनाती है । अब सबसे महत्वपूर्ण बात ये है । कि इतनी सब बाधाओं को कोई पार कर भी ले तो । द्वापर के मध्य से ही एक विशेष नियम के तहत चार शब्द हिन्दी और संस्कृत वर्णमाला से ( दोनों लगभग एक ही हैं ) और साथ ही हमारे गले के स्वर यन्त्र से गायब हो गये । जो स्फ़ोट या गूंज स्वर थे । जिनसे मन्त्र की गति होती थी । और वह अंतरिक्ष या अपने लक्ष्य पर जाकर एक्टिव होता था । जिन्होंने संस्कृत भाषा की प्राचीन पान्डुलिपियों को देखा होगा । उन्हें कुछ ऐसे शब्द जरूर निगाह में आये होंगे । जिनको बोलना असम्भव है । दूसरे संस्कृत भाषा हिंदी या अंग्रेजी की खडी बोली की तरह रूखे या लठ्ठमार अन्दाज में नहीं बोली जाती । बल्कि काव्यपाठ के से अन्दाज में लययुक्त बोलने का विधान है । खासतौर से मन्त्र उच्चारण के समय ? अभी भी हिंदी में यां उच्चारण जैसा एक शब्द है । जिसको बोला नहीं जा सकता । अंग्रेजी के एस s की तरह जो शब्द ध्वनि सूचक होता है । उसका भी उच्चारण सम्भव नहीं है । इसलिये कुछ ऐसे रहस्य है । जिनसे वैदिक मन्त्र काम नहीं करेंगे । कलियुग के लिये वास्तव में शंकर जी द्वारा रचित शाबर मन्त्र । गोरख जंजीरा । कर्ण पिशाचिनी साधना । पंचागुली साधना । जैसे छोटे मोटे काम चलाऊ और ज्वर आदि उपचार । विषेले कीडे आदि का उपचार । भूत प्रेत से रक्षा आदि के उपचार जैसे ही मन्त्र सिद्ध होने का विधान है । और इसी तरह की पैचाशिक साधनाओं को सिद्ध करके भगवान का नाम जोडकर । साधुओं के नाम पर कलंक कुछ पाखण्डी जनता को भृमित करते हैं । वास्तव में कलियुग में साधारण भक्ति और ढाई अक्षर के महामन्त्र की भक्ति का ही आदेश है । जिसके लिये तुलसीदास ने कहा है । कलियुग केवल नाम अधारा । सुमिर सुमिर नर उतरहिं पारा । क्या इसमें कोई सन्देह है ?

सोमवार, अगस्त 09, 2010

सृष्टि का रहस्य..1

एक लम्बे समय तक योग निद्रा में रहने के बाद । योग निद्रा से जागने पर भगवान की सृष्टि करने की इच्छा हुयी । भगवान में इच्छाशक्ति सदैव विधमान रहती है । उस समय उन्होंने इच्छाशक्ति से लौकिक स्वरूप धारण किया । और अपने उस रूप से प्रलय का फ़ैला हुआ अंधकार नष्ट किया । महाविष्णु के सभी अवतार पूर्ण कहे गये हैं । उनका पर स्वरूप भी पूर्ण है । और पूर्ण से ही पूर्ण उत्पन्न होता है । विष्णु का परत्व और
अपरत्व व्यक्ति मात्र से है । देश काल के सामर्थ्य से परत्व अपरत्व नहीं है । उस पूर्ण से ही पूर्ण का विस्तार होता है । और अन्त में उस रूप को ग्रहण करके पुनः पूर्ण ही शेष रहता है । प्रथ्वी के भार रक्षण आदि का
जो कार्य है । यह भगवान का लौकिक व्यवहार होता है । गुणमयी माया में ही भगवान अपनी शक्ति का आधान करते हैं । वे वीर्य स्वरूपी भगवान वासुदेव सब काल में सब देश में सर्वत्र विधमान होते हैं और तब ईश्वर कहलाते हैं । अपनी माया में प्रभु स्वयं वीर्य का आधान करते हैं । वीर्य स्वरूप भगवान वासुदेव हैं और सभी काल में सभी अर्थों से युक्त हैं । इनके अचिन्त्यवीर्य और चिन्त्यवीर्य के भेद से दो रूप हैं । जिनमें एक स्त्री रूप है । दूसरा पुरुष रूप है । दोनों स्वरूप ही वीर्यवान हैं । इनमें भेद नहीं मानना चाहिये । देवी लक्ष्मी कभी हरि से अलग नही हैं । वे सदा उनकी सेवा में रहती हैं । नारायण नाम से कहे जाने वाले हरि यधपि पूर्ण स्वतंत्र हैं । किन्तु वे लक्ष्मी के विना अकेले कैसे रह सकते हैं । पुरुष नामक उन विभु ने तीन गुणों की सृष्टि की है । भगवान ने प्रकृति के तीन गुणों की सृष्टि की । लक्ष्मी ने भी तीन रूप धारण किये । श्री । भू और दुर्गा । इनमें श्रीदेवी । सत अभिमानी । भू देवी रज अभिमानी । और दुर्गा तम अभिमानी हैं । फ़िर भी इन तीनों में अन्तर नहीं है । हरि ने तीन रूप धारण किये । जो ब्रह्मा विष्णु महेश के नाम से जाने गये । लोकों का पालन करने से सत गुण युक्त विष्णु कहलाये । सृष्टि हेतु रजोगुण से संयुक्त होने पर ब्रह्मा कहलाये । और संहार हेतु तम से संयुक्त शंकर कहलाये । भगवान जब सृष्टि कार्य हेतु उन्मुख हुये । तो उनमें क्षोभ उत्पन्न हुआ । इसके फ़लस्वरूप तीन गुणो वाला महतत्व प्रकट होता है । उस से ब्रह्मा और वायु का प्राकटय होता है । यह महतत्व रज प्रधान है । इस सृष्टि को गुण वैषम्य सृष्टि जानना चाहिये । फ़िर इस विशिष्ट
महतत्व में लक्ष्मी के साथ स्वयं हरि प्रविष्ट हुये । उन्होंने महतत्व को क्षुब्ध किया । इस क्षोभ के फ़लस्वरूप
उससे ग्यान द्रव्य क्रियात्मक यानी अहम तत्व उत्पन्न हुआ । इस अहं तत्व से शेष गरुण और हर उत्पन्न हुये ।
फ़िर से हरि ने लक्ष्मी के साथ इस अहं तत्व को क्षुब्ध किया । यह अहं तत्व वैकारिक तामस और तैजस तीन प्रकार का है । इस अहम के नियामक रुद्र भी तीन प्रकार के हैं । वैकारिक रुद्र । तामस रुद्र और तैजस रुद्र ।
फ़िर से भगवान ने लक्ष्मी के सात तैजस अहं तत्व को क्षुब्ध किया । इससे वह दस प्रकार का हो गया । जो श्रोत्र । चक्षु । स्पर्श । रसना । और घ्राण तथा वाक । पाणि पाद पायु और उपस्थ इन कर्म इन्द्रियों तथा ग्यान इन्द्रियों के रूप में दस प्रकार का कहा जाता है । फ़िर वैकारिक अहं तत्व को हरि ने क्षुब्ध किया ।
महतत्व से ग्यारह इन्द्रियों के ग्यारह अभिमानी देवता प्रकट हुये । पहले मन के अभिमानी इन्द्र और कामदेव हुये । बाद में अन्य देव उत्पन्न हुये । इसी प्रकार द्रोण प्राण ध्रुव आदि ये आठ वसु हुये । रुद्रों की सख्या दस है । मूल रुद्र भव कहे जाते हैं । रैवन्तेय । भीम । वामदेव । वृषाकपि । अज । समपाद । अहिर्बुधन्य । बहुरूप । महान ये दस रुद्र हैं । उरुक्रम । शक्र । विवस्वान । वरुण । पर्जन्य । अतिवाहु । सविता । अर्यमा । धाता । पूषा । त्वष्टा । भग ये बारह आदित्य हैं । प्रभव । अतिवह आदि उनचास मरुदगण हैं । पुरुरवा । आर्द्रव । धुरि । लोचन । क्रतु । दक्ष । सत्य । वसु । काम । काल । ये दस विश्वेदेव हैं ।
इन्द्रियों के अभिमानी देवो के समान ही स्पर्श रूप रस गन्ध आदि तत्वों के अभिमानी अपान व्यान उदान आदि वायु देवों की सृष्टि हुयी । रैवत । चाक्षुष । स्वरोचिष । उत्तम । ब्रह्मसावर्णि । रुद्रसावर्णि । देवसावर्णि । दक्षसावर्णि । धर्मसावर्णि आदि मनु हुये । ऐसे ही पितरों के सात गण हुये । इनसे वरुण आदि की पत्नी के रूप में गंगा आदि का आविर्भाव हुआ । च्यवन महर्षि भृगु के पुत्र और उतथ्य ब्रहस्पति के पुत्र हुये ।

सृष्टि का रहस्य..2

जब महाप्रभु उन सम्बन्ध रहित तत्वों में प्रविष्ट हुये । इससे उनमें क्षोभ उत्पन्न हुआ । सबसे पहले भगवान ने हिरण्यात्मक ब्रह्माण्ड बनाया । जो पचास करोड योजन में ( एक योजन बारह किलोमीटर के बराबर होता है । ) फ़ैला हुआ था । उसके ऊपर अवस्थित अत्यन्त सूक्ष्म भाग भी उतने ही विस्तार में फ़ैला हुआ था । जितने में उस हिरण्मय अण्ड का विस्तार था । उसके भी ऊपर पचास करोड योजन भूतल था । यह सात आवरणों द्वारा चारों ओर परिधि से घिरा हुआ था । पहले आवरण का नाम कबन्ध है । दूसरा आवरण
अग्निदेव का है । तीसरा आवरण महात्मा हर का है । चौथा आवरण आकाश का है । पांचवा आवरण अहंकार का है । छठा आवरण महतत्व का है । सातवां आवरण त्रिगुणात्मक है । इसके बाद अव्याकृत आकाश है । इसके विस्तार की कोई सीमा नहीं है । इसी मण्डल के मध्य अव्यय हरि हरि रहते हैं । आठवां आवरण आकाश का है । इसके मध्य में विरजा नदी है । इसका विस्तार पांच योजन का है । विरजा नदी में स्नान करके लिंग देह का परित्याग करके हरि के मोक्ष पद की प्राप्ति होती है । प्रारब्ध कर्म क्षय हो जाने पर ही विरजा में स्नान सम्भव होता है । इस विरजा नदी का प्रलय में भी लय नहीं होता । ये लक्ष्मी स्वरूप है । क्योंकि ये प्राणी के लिंग स्वरूप का नाश करती है । विरजा नदी के बाद व्याकृत आकाश है । जो निःसीम है । इसकी अभिमानी देवता लक्ष्मी है । सृष्टि के समय़ ब्रह्माण्ड के अभिमानी देवता ब्रह्मा थे । जो विराट कहे गये । इस प्रकार ब्रह्माण्ड आदि का सृजन करके हरि उन तत्वाभिमानी देवताओं के साथ उस ब्रह्माण्ड के ऊपर नीचे सर्वत्र व्याप्त होकर नित्य स्थित रहते हैं । इसको प्राकृत सृष्टि है । अव्यक्त आदि से लेकर प्रथ्वी तक के जो भी तत्व इस अण्ड रूप जगत में बाह्य रूप से उत्पन्न हुये हैं । ये सभी प्राकृत सृष्ट कहे जाते हैं । और ब्रह्माण्ड तथा ब्रह्माण्डान्तवर्ती सृष्टि वैकृत सृष्टि कही जाती है । जिन्हें पुरुष कहते हैं । वे हरि हैं । उन हरि ने उस हिरण्मय अण्ड के मध्य जलराशि में एक हजार वर्ष तक शयन किया । उस समय लक्ष्मी जल रूप में थी । शय्या रूप विध्या थी । तरंग रूप वायु थे । और तम ही निद्रा रूप था । इसके अतिरिक्त वहां कोई नहीं था । उसी उदक के मध्य भगवान नारायण योगनिद्रा में स्थित थे । उस समय लक्ष्मी ने उनकी स्तुति की । हरि की प्रकृति ही उस समय लक्ष्मी और धरा या भू देवी का रूप धारण कर लेती है ।
और शेष वेद रूप धारण करके उन सोये हरि की स्तुति करते हैं । फ़िर वे महाविष्णु निद्रा का परित्यागकर प्रबुद्ध हो उठे । उस समय उनकी नाभि से सम्पूर्ण जगत का आश्रय भूत हिरण्मय पद्म प्रादुर्भूत हुआ । इसे प्राकृत सृष्टि के रूप में समझना चाहिये । उस सृष्टि की अभिमानी देवता भूदेवी थी । यह पद्म असंख्य सूर्य के समान प्रकाशवान है । चिदानन्दमय विष्णु उससे भिन्न हैं । इसे भगवान का किरीट आदि आभूषण समझना चाहिये । हरि के किरीट आदि भी दो प्रकार के हैं । एक स्वरूप भूत । दूसरा स्वरूप भिन्न । उस हिरण्मय पद्म से सभी लोकों के विधायक ब्रह्माण्ड की सृष्टि हुयी । उस पद्म से चतुर्मुख ब्रह्मा हुये । किसने मुझे बनाया ? वे प्रभु कौन है ? ऐसी जिग्यासा से ब्रह्मा उस पद्म के नाल में प्रविष्ट हो गये । किन्तु अग्यानवश होने से कुछ जान न सके । उस समय उन्हें तप तप ये दो शब्द सुनाई दिये । तब ब्रह्मा ने हरि की एक हजार दिव्य वर्ष तक तपस्या की । तब भगवान प्रसन्न होकर प्रकट हो गये । और ब्रह्मा द्वारा स्तुति के बाद कहा । हे ब्रह्मन ।मेरे प्रसाद से इन देवताओं की वैसी ही सृष्टि आप करें । जिस प्रकार पूर्वकाल में आपने की थी । हालांकि आपके लिये इसका कोई प्रयोजन नहीं हैं । फ़िर भी मेरी प्रसन्नता के लिये आप करें । तब महत्वात्मक ब्रह्मा ने सर्वप्रथम जीव के अभिमानी देवता वायु की सृष्टि की । इस तरह वायु सृष्टि का प्रथम पुरुषात्मा है । तब ब्रह्मा ने अपने दाहिने हाथ से ब्रह्माणी और भारती इन दो देवियों की सृष्टि की । बायें हाथ से सत्य के पुत्र महतत्वात्मक अनल को ( अग्नि ) उत्पन्न किया । दाहिने हाथ से ही अहंकारात्मक
हर की सृष्टि हुयी । इसी प्रकार शेष वायु गायत्री वारुणी सौपर्णी चन्द्र इन्द्र कामदेव आदि इन्द्रियों के अभिमानी देवताओं । तथा मनु शतरूपा दक्ष नारद आदि ऋषि । कश्यप अदिति वसिष्ठ आदि ब्रह्म ग्यानी ऋषि । कुबेर विष्ववक्सेन आदि की देव सृष्टि हुयी ।

शुक्रवार, अगस्त 06, 2010

but can u give me some evidences ?

लेखकीय -- आप लोगों की प्रतिक्रियाओं के लिये । आभार । कुछ चुनिंदा comments को जिनके उत्तर देना आवश्यक लगा । मैंने यहां लेख में शामिल किया है । अन्य लोग कृपया इसे अन्यथा न लें ।
********
जय गुरूदेव की । राजीव जी कल में आपका लेख " सोते में जागो " का अनुवाद कर रहा था यह सोचकर कि गुरूपुर्णिमा से पहले ही प्रकाशित कर दूगां पर अनुवाद करते ही बिजली चली गयी,खैर आज गुरूपुर्णिमा को प्रकाशित कर दिया । spiritualismfromindia.blogspot.com
******
Gulshankumar " सोना बनाने के रहस्यमय नुस्खे 1 " पर respected Rajiv jiin sab upyogi jankariyo or margdarshan ke liye dhanyvad.thanksGulshankumar
******
Akki पोस्ट " अवधूता युगन युगन हम योगी , " पर राजीव जी क्या आप के पास यह भजन ऑडियो के रूप में उपलब्ध है ? यदि हो तो कृपया उसे मेरे email id akhil_iips@rediffmail.com पर भेज देवे तो बड़ी मेहरबानी होगी !
******* मेरी बात--sorry Akki जी । मेरे पास ऑडियो नहीं है । होने पर अवश्य आपको भेजता ।
*******
dr.damodar पोस्ट " मृतक का अंतिम संस्कार..? " पर आध्यात्मिक ग्यान की सरिता प्रवाहित हो रही है आपके इस आलेख में। आभार!
*******
Mrs. Asha Joglekar पोस्ट " बहुत से सवाल हैं जिनका कोई जवाब नहीं देता..1 " पर Achcha laga aapka blog. Bramhan shayad Brahmadnya shabd ka prakrut roop hai. Jo brahm ko janta samazta hai wahi brahman hai klantar me isme anek pakhnad ghus gaye warna Brahman ka kam to adhyayan aur adhyapan hee tha. Kisi kal me bhee samaj buraeeyon se mukt nahee tha ye aapi bat theek hai.
******** मेरी बात ।--धन्यवाद Mrs. Asha Joglekar जी । विध्यार्थी । शिक्षक । प्रवक्ता । विद्वान । पंडित । ग्यानी । ब्राह्मण । गुरु । सतगुरु । आत्मा । परमात्मा । ये क्रमशः मनुष्य जीवन में ग्यान की उत्तरोतर प्रगति है । आप इस क्रम को गौर से देखे । पहले कोई भी । शिक्षार्थी होता है । फ़िर सीखकर शिक्षक । फ़िर विषय निपुण प्रवक्ता ।फ़िर उस विषय का विद्वान । फ़िर पंडित । फ़िर अधिक परिपक्वता पर ग्यानी । ब्राह्मण का सही अर्थ ब्रह्म में स्थिति । गुरु का मतलव । उस ग्यान का नियुक्त अधिकारी ।सतगुरु का अर्थ । शाश्वत सत्य या प्रत्येक सत्य को जानने वाला । यहां तक का ग्यान हो जाने के बाद आत्मा से परमात्मा की यात्रा भर शेष रह जाती है ।
*******
सुज्ञ पोस्ट " बहुत से सवाल हैं जिनका कोई जवाब नहीं देता..1 " पर राजीव जी,आस्तिकता पर एक अभिनव दृष्टिकोण!!इस सुन्दर लेख के लिये आपको बधाई देता हूंनास्तिक ये क्युं मानते हैं,कि जरा भी नास्तिकता की बातें की तो सारे आस्तिक आकर पिल पडेंगे।वस्तुतः आस्तिकता एक सौम्य अवधारणा ही है, किन्तु आप जानकर किसी अल्पज्ञानी आस्तिक को छेडेंगे तो सम्भव है कुछ आक्रोश प्रकट हो। लेकिन नास्तिको में एक मनोग्रंथी है कि,नास्तिक हुए बिना व्यक्ति आधुनिक और विकासवादी हो ही नहिं सकता।
***** मेरी बात ।--ग्यान । अग्यान । अंधेरे । उजाले । इनका निरंतर संघर्ष जीवन में उत्साह और चेतना के लिये बहुत आवश्यक है । कोई भी हो । उसकी विचारधारा समय के साथ बदलती ही है । ग्यान की तरह अग्यान भी स्थायी नहीं होता । ग्यानी का पतन । और अग्यानी का उत्थान । इतिहास में इसके करोडों उदाहरण है । ईस ही इच्छा से जीव हो गया । जीव इच्छा से ईश हो जाता है । केवल आत्मा में कोई परिवर्तन नहीं होता । स्थिति में परिवर्तन हर पल होता है । क्योंकि प्रकृति मे निरंतर हलचल होना उसका स्वभाव ही है ।
********
Rajeev पोस्ट " हठ योगी " पर जय गुरूदेव कीराजीव जी हठ योग के बारे में समझ आ गया,और मेरी रूचि भी ना तो हठ योग में है,ना ही कुन्डलनी में,मेरी रूचि तो प्रभु की कृपा पाने में है,और यह भी मानता हूँ,प्रभु एक हैं,फिर भी अम्बे माँ की ओर विशेष झुकाव है,और इसका उत्तर आपने दे भी दिया था ।आभार ।
*********
uthojago (http://uthojago.wordpress.com/) पोस्ट " मृत्यु के बाद का सफ़र .. " पर I believe in this philosophy but can u give me some evidences
******** मेरी बात ।--इस लाइन ने मुझे बेहद आकर्षित किया । मुझे याद है । कि बचपन में मेरे परिवार के लोग खुशी के साथ मेरा जन्मदिन मनाना चाहते थे । मैंने कहा । तुम अजीव हो । आज मैं एक साल और मर गया । इसमें खुशी किस बात की है ? तुमने मुझे बता दिया है कि इंसान सौ साल जीता है । मुझे चिंता है कि मैं उसके बाद कहां जाने वाला हूं ? मैं जानना चाहता हूं । तुम वास्तव में मेरे अपने हो ? मैं जन्म से पहले कहां था और कौन था ? तुम कौन हो जो मेरा परिवार बने हो ? ऐसे अनेकों सवाल है । जिनका जबाब न होना मुझे बैचेन करता है । मुझे लगता है । मैं खो गया हूं । फ़िर मैं खुश कैसे हो जाऊं ?
तब मैंने तय किया । मुझे लौटना होगा । उस अदृश्य की ओर । उस अग्यात की ओर । जहां से मैं आया हूं ।
और इसमें कोई शंका नहीं है ? I believe in this philosophy but can u give me some evidences . बहुत सरल है । इसका evidences देना । जरा विचार करो । आप नदी की धारा के साथ बहते हुये आ गये हो । और निरंतर बहते जा रहे हो । तब आप धारा की मर्जी और बहाव पर निर्भर हो । यह जीवन है । जीवन के पार देखना है । मृत्यु के पार देखना है ? तो धारा के विपरीत तैरना होगा । इसलिये रुक जाओ । धाराओं का वेग त्याग दो । पीछे देखो । ये धारा कहां से आ रही है ? और इसको जानने के लिये विपरीत तैरना आरम्भ कर दो । तभी सत्य का पता चलेगा । तभी अपना पता चलेगा । तभी मृत्यु का पता चलेगा । और ये बहुत आसान है । कबीर ने कहा है । जा मरिबे से जग डरे । मेरे मन आनन्द । मरने ही से पाईये पूरा परमानन्द । बुद्ध विचलित हो गये । काफ़ी समय की कठिन तपस्या के बाद भी कुछ हाथ न आया । ह्रदय से स्वतः आवाज निकली । प्रभु तुझे ऐसे ही भक्तों को परेशान करने में मजा आता है । तुरन्त अंतर में आकाशवाणी हुयी । शरीर के माध्यम का ध्यान कर । धारा आ रही है ।
मगर तुम इसको व्यर्थ व्यय कर रहे हो । पहले थिरता । फ़िर धारा के स्रोत की तरफ़ जाना । यही उस अगम देश पहुंचने का मार्ग है । जहां तुम्हारा असली परिचय छूट गया है । और बार बार मरने से मृत्यु की अनेक दीबारे खडी हो जाने से । वो तुम्हारा निज देश ओझल हो गया । जहां के तुम वासी हो । तू अजर अनामी वीर । भय किसकी खाता । तेरे ऊपर कोई न दाता ।
*******मृत्यु के बाद का सफ़र--महज एक सप्ताह में देखा जा सकता । सुई गिरने की आवाज भी न हो ऐसा स्थान । हल्का अंधेरा । न अधिक ठंडा । न अधिक गर्म । सात दिन किसी से कोई भी कैसा भी सम्पर्क नहीं ।केवल शरीर की जरूरत । भोजन । पानी । स्नान । मल मूत्र त्याग । जैसे कार्य ही कर सकते है । ऐसी व्यवस्था जिसके पास हो । वो आराम से जीवन के पार । अग्यात को । मृत्यु को । अपने अन्य जीवन को । देख सकता
है । बस कुछ नियमों को मानना होगा । सहज तरीके में मेरा अनुभव अलग है । कुछ लोगों ने पहले ही दिन बिना किसी व्यवस्था के बहुत कुछ देखा । और कुछ को छह महीने तक लग गये । अब ये प्रयोगकर्ता की मर्जी है कि वो राकेट से जाना चाहता है । हवाई जहाज से । या अन्य वाहन से ?
************
संजय भास्कर पोस्ट " पांच प्रेत...five ghost " पर मुझे आपका ब्लोग बहुत अच्छा लगा ! आप बहुत ही सुन्दर लिखते है ! मेरे ब्लोग मे आपका स्वागत है !
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...