सोमवार, सितंबर 19, 2011

प्रसून का इंसाफ़ 10

महावीर ने तुरन्त उम्मीद की एक नयी रोशनी के साथ उसकी तरफ़ देखा । वे दोनों आदमी भी यकायक चौंककर देखने लगे ।
लेकिन उनकी तरफ़ कोई ध्यान न देकर वह बोला - हिमालय के ऊपरी दुर्गम पहाङ उतरकर तिब्बत की तरफ़ आप... एक मिनट..। कहकर उसने पी सी नोट बुक निकाली । और नेट पर मैप के द्वारा उन्हें समझाने लगा - यहाँ से जब आप घाटी में उतरेंगे । तो चेन जिंगप्पा नाम का एक बूढा साधु टायप आपको यहाँ मिलेगा । यह हमेशा यहीं रहता है । और ऐसे ही बङे केसेज की डील में जाता है । एण्ड योर केस इज वेरी इंट्रेस्टिंग । मीन उनकी स्पेशलिटी के मुताबिक । सो वे दौङे चले आयेंगे ।
यह सुनते ही तीनों के दिमाग में तत्काल एक ही ख्याल आया । ये आदमी है । या पूरा गधा । गधा नम्बर 1 । एक बार को तो प्रसून के इस सुझाव पर उन्हें इस कदर झुँझलाहट हुयी कि इस बेहूदा आदमी के पास से तुरन्त चले जायें । लेकिन फ़िर उन्होंने सोचा कि अपनी तत्काल हाऊ हाऊ परिस्थिति उन्हें ऐसा सोचने पर विवश कर रही है । जबकि प्रसून सामान्यतया सही ही कह रहा है । वह जितना जानता है । और जैसा जानता है । बता रहा था । इंसान को आसान और नजदीक उपाय की स्वभाव अनुसार अपेक्षा होती ही है । पर कभी कभी उसके लाइलाज जैसे रोग का इलाज बहुत दूर भी होता है । सात समन्दर पार भी होता है । और वहाँ जाना ही होता है । जैसे किसी सात समन्दर पार प्रेमिका के पास भी अभिसार हेतु जाने की व्याकुलता सी होती ही है । अगर वह वहाँ ही रहती हो ।
फ़िर भी वह बेबसी से उँगलियाँ चटकाता हुआ ढीटता से बोला - प्रसून जी ! वैसे आप ठीक ही कह रहे हो । पर क्या आप खुद जानते हो । आप क्या कह रहे हो । इसका मतलब कुछ कुछ ऐसा ही है कि टट्टी हिन्दुस्तान में लग रही है । लग क्या रही है । बल्कि निकली पङ रही है । निकलने वाली है । और आप कह रहे हो । पाखाना पाकिस्तान में है । मेरी बात समझने की कोशिश करो भाई ।
- खैर..। प्रसून ने रिस्टवाच में समय देखा । 6 बजने वाले थे । फ़िर वह अचानक मानों कुछ निर्णय सा लेता हुआ बोला - आप ये बताओ । मुझसे क्या चाहते हो ? क्योंकि आप बङी उम्मीद से मेरे पास आये हो । इसलिये मेरा फ़र्ज बनता है कि आप लोगों की..।
लेकिन उसका वाक्य अधूरा ही रह गया । जीने पर भागते हुये कदमों की आहट आयी । और तुरन्त दो युवक लगभग भागते हुये ही आये । और सीधा कमरे में आ गये । उनके चेहरे पर हवाईंया उङ रही थी ।
- दद्दा जल्दी चलो । जल्दी चलो । कहते हुये वह अपनी बात ठीक से कह भी नहीं पा रहे थे । महावीर भी हङबङा गया । और वह और प्रसून दोनों हैरानी से एक दूसरे की तरफ़ देखने लगे ।
उन्होंने उसी हङबङाहट में जल्दी जल्दी बताया । अभी आधा घण्टा पहले ही उसके घर की फ़ूला सहित गाँव की कुछ औरते पगला सी गयीं हैं । और गाँव में बंदूक रिवाल्वर आदि हथियार लिये घूम रही हैं । वे आपको और इतवारी को गन्दी गन्दी गालियाँ देती हुयी घूम रही हैं । और सुरेश के घर में घुसकर सबको मार रही हैं । और आग लगाने की बात कर रही हैं । उन्होंने अपने कपङे जगह जगह से फ़ाङ लिये हैं । वे किसी दैवीय प्रभाव में मालूम होती हैं । और किसी के वश में नहीं आ रही हैं । अतः बस आप जल्दी से चलिये ।
महावीर के होश उङ गये । उसने घबराकर प्रसून की तरफ़ देखा । वे जल्दी चलने को कह रहे थे । जबकि वह देर में भी नहीं जाना चाहता था । बिलकुल भी नहीं जाना चाहता था । शायद अब जिन्दगी भर नहीं जाना चाहता था । प्रसून का दिल फ़िर से खुलकर राक्षसी अट्टाहास लगाने को हुआ । मगर अब फ़ैसले की घङी आ चुकी थी ।
वास्तव में ये मरुदण्डिका ने उसके लिये ही संदेश भेजा था कि आज की रात कयामत की रात होगी । फ़ैसले की रात होगी । और मरुदण्डिका को उसकी सहायता की आवश्यकता थी । आन द स्पाट आवश्यकता थी ।  क्योंकि प्रसून का फ़ैलाया निर्मित तन्त्र सिर्फ़ चार दिन ही काम करने वाला था । उसके बाद फ़िर से मरुदण्डिका और उसकी प्रेत सेना गाँव में नहीं जा सकती थी । इसलिये इससे पहले कोई और रुकावट आये । वह अपना काम खत्म करना चाहती थी । क्योंकि उसे मालूम था कि महावीर और इतवारी इस समय उसके पास बैठे हैं । इसलिये उसने अपने ही स्टायल में संदेश भेजा था । यानी मियाँ की जूती । और मियाँ का ही सिर । मरने वाला खुद मौत की तरफ़ भागे । आ बैल मुझे मार ।


थैंक्स..मरु..। बेख्याली में प्रसून के मुँह से निकल ही गया । महावीर ने चौककर उसकी तरफ़ देखा । तो वह तेजी से संभलकर बोला - आय मीन । थैंक गाड..आप यहाँ पर हो । तो सचेत हो सकते हो । वरना शायद वे तो आपको मार भी देती ।
महावीर के शरीर में तेज झुरझुरी सी दौङ गयी । उसने गले तक डूब गये अतैराक इंसान की तरह से भयभीत और बुझी बुझी आँखों से प्रसून की तरफ़ देखा । पर प्रसून के दिल में कोई सहानुभूति न हुयी । लेकिन मामला जल्दी वाला था । और उसे स्टायल से डैथ गेम में शामिल रहना था । अतः उसने तुरन्त निर्णय सा लिया । और बाकी लोगों से बोला - आप लोग तुरन्त वापस गाँव पहुँचिये । लेकिन अभी जब तक मैं न पहुँचू । गाँव में अन्दर मत जाना । बाहर से ही निगाह रखना । तब तक मैं अपनी गाङी से इन दोनों..। उसने महावीर और इतवारी की तरफ़ उँगली दिखाई - को अपने साथ लेकर आता हूँ ।.. मौत के मुँह में..। ये शब्द उसने मन ही मन कहे । फ़िर आगे बोला - हम तीनों गाङी से सावधानी से स्थिति का जायजा लेते हुये जायेंगे । और शालिमपुर जाने के लिये यमुना पर ब्रिज थोङा घूमकर भी है । अतः दूसरे रास्ते से पहुँचेंगे । तब तक आप लोग पहुँच कर स्थिति को संभालो ।
देखो भाई ! वह भावहीन स्वर में बोला -  साफ़ साफ़ सुन लो । मुझसे ज्यादा उम्मीद मत रखना । पर मेरे से जितना बन पङेगा । मैं आपकी हेल्प करूँगा । अगर आप बोलो । तो चलूँ । ना बोलो । तो ना चलूँ । भले आदमियों के साथ..। उसने महावीर और इतवारी की तरफ़ फ़िर से देखा - भगवान भी कुछ न्याय करता है । आखिर उसका भी कोई इंसाफ़ है । इंसान की सोच से परे इंसाफ़ । वह किसी दीन दुखी की पुकार पर..। उसे फ़िर से रत्ना की याद आयी - पर ध्यान न दे । ऐसा हो नहीं सकता । जब उसने मुझे निमित्त बनाकर आपको मेरे पास भेजा है । तो कुछ सोचकर ही भेजा होगा । इसलिये मैं भी अपनी समझ से पूरा इंसाफ़ ही करूँगा । ये मेरा इंसाफ़ होगा । प्रसून का इंसाफ़ ।
महावीर और इतवारी को ऐसा लगा । मानों वे मरने के बाद जिन्दा हो गये हैं । प्रसून के हिम्मती स्वर ने उनके मुर्दा जिस्म में फ़िर से प्राण से फ़ूँक दिये थे । बोलते वक्त कैसा खुदाई मसीहा सा नजर आ रहा था वो । आसमान से उतरा दिव्य फ़रिश्ता । दुखियों का दुख समझने वाला ।
उसके चुप होने पर सबने एक दूसरे की तरफ़ देखा । और मुक्त भाव से उसका समर्थन भी किया । जाने क्यों उसकी एक एक बात । एक एक शब्द । उन्हें सच्चाई से ओतप्रोत दिव्य वाणी सा महसूस हो रहा था । जैसे ये आवाज किसी इंसान के मुँह से नहीं । बल्कि किसी पाक रूह से आ रही थी । जिसका एक एक लफ़्ज । उनकी आत्मा को झंकृत कर रहा था ।
तुरन्त ही सबकी सहमति बन गयी । और महावीर और इतवारी को वहीं छोङकर वे दोनों युवक और वह आदमी वापस रवाना हो गये ।
प्रसून तेजी से दोनों के साथ कामाक्षा के अहाते में खङी वैगन आर से पहुँचा । और कुछ ही देर में उसकी कार शालिमपुर के लिये फ़र्राटा भरने लगी । इतवारी उसकी ड्राइविंग देखकर हैरान था । कार मानों दौङने के बजाय उङ रही हो । टेङी मेङी सङक पर भी फ़ुल स्पीड से दौङती गाङी को वह ऐसे काटता था कि दोनों का कलेजा बाहर निकलने को हो जाता । गाङी किलर झपाटा स्टायल में सिर्फ़ सूंयऽऽऽऽ सूंय़ऽऽऽऽऽ कर रही थी । दूर से आते वाहन भी घबराकर धीमे हो गये । और उसे पर्याप्त जगह देते हुये काफ़ी फ़ासला देकर साइड से हो गये ।
तब महावीर को उसमें कुछ दम नजर आयी । स्टेयरिंग सीट पर बैठे आत्मविश्वास से भरे प्रसून को देखकर उसे समझ आया कि चाँऊ बाबा क्यों इस लङके की मुक्त कण्ठ से तारीफ़ करता था ।
पर इस सबसे बेपरवाह प्रसून के दिमाग में रत्ना घूम रही थी । कुछ ही देर में उसकी गाङी यमुना ब्रिज पार करती हुयी शालिमपुर के शमशान में खङी थी । उसने गाङी रत्ना की खोह से काफ़ी पहले ही रोक दी थी । और उनको समझा दिया था कि वह कुछ खास इंतजाम कर रहा है । इसलिये वह गाङी से बाहर न आयें । और यहीं उसका इंतजार करें । वे उसके इस नये कदम पर हैरान तो हुये । पर उनकी समझ में कुछ नहीं आया । और वैसे भी प्रसून जानता था । उन पर हावी हुआ मौत का डर । न तो उन्हें कुछ सोचने देगा । और न ही गाङी से निकलने देगा । जबकि वह इस वक्त शमशान में और खङा था ।
उसने रत्ना को बुलाकर कुछ समझाया । और 15 मिनट तक समझाता रहा । हालाँकि उसने रत्ना को खुलकर कुछ नहीं बताया कि क्या होने वाला है । पर जब से वह उससे मिला था । किसी भी प्रेत ने उसे तंग नहीं किया था । उसकी एक एक बात सच हुयी थी । इसलिये रत्ना पूरे आदर से उस पर विश्वास करती थी । दरअसल प्रसून उसे सरप्राइज करना चाहता था । और लाइव दिखाना चाहता था । इसलिये वह खास बात गोल ही कर गया ।
फ़िर वह लौटा । और गाङी में सवार हो गया । उसकी गाङी शालिमपुर की ओर रवाना हो गयी । जिसके ऊपर छत पर बैठी हुयी रत्ना अपने पिया के गाँव एक बार फ़िर वापस जा रही थी । उसके बच्चे आराम से खोह में सोये हुये थे । प्रसून के होते जाने क्यों वह उनकी तरफ़ से एकदम निश्चिन्त थी । और उसकी हर बात खुशी से मान लेती थी ।
गाङी शालिमपुर की गलियों में दाखिल होकर रुक गयी । महावीर ने अन्दर बैठे बैठे ही बाहर देखा । उसके छक्के छूट गये । भय से हवाईंया उसके चेहरे पर उङने लगी । वह आँखें फ़ाङ फ़ाङकर बाहर भौंचक्का सा देखने लगा ।
डाण्ट वरी ! कहता हुआ प्रसून उसको थपथपा कर गाङी से बाहर आ गया ।

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...