सोमवार, सितंबर 19, 2011

प्रसून का इंसाफ़ 4

लम्बे लम्बे डग भरता हुआ वह तेजी से उसी तरफ़ चला जा रहा था । जहाँ अभी अभी उसने वह रहस्यमय नजारा देखा था । हालांकि अब वह बहुत ज्यादा उसके लिये रहस्यमय भी नहीं था । वह बहुत कुछ समझ भी चुका था । पर रात के गहन अँधेरे में सन्नाटे में एक प्रेतनियों के आगे लाचार गिङगिङाती औरत और उसके छोटे  बच्चों ने उसकी खासी दिलचस्पी जगायी थी । आखिर पूरा मामला क्या था ? कौन थी वह ? और वहाँ क्यों थी । जो जिन्दगी का आखिरी पढाव होता है ।
यही सब विचार उसके दिमाग में तेजी से चक्कर काट रहे थे । कैसा रहस्यमय है ये पूरा जीवन भी । हमसे चार कदम दूर ही जिन्दगी क्या क्या खेल खेल रही है । क्या खेल खेलने वाली है ? शायद कोई नहीं जान पाता । खुद उसने ही थोङी ही देर पहले नहीं सोचा था कि वह यहाँ अकारण ही यहाँ आयेगा । उसे जलती लाश के बारे में मालूमात होगा । पर हुआ था । सब कुछ थोङी देर पहले ही हुआ था ।
चलते चलते वह ठीक उसी जगह आ गया । जहाँ टीले पर वह औरत शान्त बैठी हुयी थी । उसके बच्चे वहीं पास में खेल रहे थे । प्रसून उनकी नजर बचाता हुआ उन्हें छुपकर देखने लगा । कुछ देर शान्ति से उसने पूरी स्थिति का जायजा लिया ।
टीला मुर्दा जलाने के स्थान से महज सौ मीटर ही दूर था । औरत और बच्चों को देखकर जाने किस भावना से उसके आँसू बहने लगे । फ़िर उसने अपने आपको नियन्त्रित किया । और अचानक ही किसी प्रेत के समान उस औरत के सामने जा प्रकट हुआ । वह तुरन्त सहमकर खङी हो गयी । और बच्चों का हाथ थामकर चलने को हुयी ।
- कौन थीं ये ? उसने खुद ही जानबूझ कर मूर्खतापूर्ण प्रश्न किया - अभी अभी जो..।
वह एकदम से चौंकी । उसने गौर से प्रसून को देखा । पर वह कुछ न बोली । उसने बात को अनसुना कर दिया । और तेजी से वहाँ से जाने को हुयी ।
प्रसून ने असहाय भाव से हथेलियाँ आपस में रगङी । उसकी बेहद दुखी अवस्था देखकर वह यकायक कुछ सोच नहीं पा रहा था । फ़िर वह सावधानी से मधुर आवाज में बोला - ठहरो बहन । कृपया । मैं उनके जैसा नहीं हूँ ।
वह ठिठककर खङी हो गयी । उसके चेहरे पर गहन आश्चर्य था । वह बङे गौर से प्रसून को देख रही थी । और बारबार देख रही थी । और फ़िर अपने को भी देख रही थी । फ़िर वह कंपकंपाती आवाज में बोली - अ अ आप भगवान जी हो क्या ? मनुष्य रूप में ।
प्रसून के चेहरे पर घोर उदासी छा गयी । वह उसी टीले पर बैठ गया । उसने एक निगाह उन मासूम बच्चों पर डाली । फ़िर भावहीन स्वर में बोला - नहीं ।

औरत ने बच्चों को फ़िर से छोङ दिया था । वह असमंजस की अवस्था में इधर उधर देख रही थी । प्रसून उसके दिल की हालत बखूबी समझ रहा था । और इसीलिये वह बात को कैसे कहाँ से शुरू करे । तय नहीं कर पा रहा था । यकायक उस औरत के चेहरे पर विश्वास सा जगा ।
और वह कुछ चकित सा होकर बोली - आप मुझे देख सकते हो । और इन । उसने बच्चों की तरफ़ उँगली उठाई - दो बच्चों को भी ।
प्रसून ने स्नेह भाव से सहमति में सिर हिलाया । पर उस औरत के चेहरे पर अभी भी हैरत थी ।
फ़िर वह बोली - तब और सब क्यों नहीं देख पाते ?
- शायद इसलिये । वह जल चुकी चिता पर निगाह फ़ेंकता हुआ बुझे स्वर में बोला - क्योंकि इंसान सत्य नहीं । सपना देखना अधिक पसन्द करता है । वह जीवन भर सपने में जीता है । सपने में ही मर जाता है ।
- मेरा नाम रत्ना है । उसके मुर्दानी चेहरे पर बुझी राख में इक्का दुक्का चमकते कणों के समान चमक पैदा हुयी । फ़िर वह वहीं उसके सामने जमीन पर ही बैठ गयी ।
प्रसून ने एक सिगरेट सुलगाई । और गहरा कश लिया । जाने क्यों दोनों के बीच एक अजीब सा संकोच हावी हो रहा था । बहुत दिनों बाद रत्ना को कोई उसके हाल पूछने वाला हमदर्द मिला था । वह सब कुछ बताना चाहती थी । पर बता नहीं पा रही थी । कई महीनों बाद उसे कोई इंसान मिला था । कई महीनों क्या ? शायद इस जीवन में ही पहली बार । हैवानों से तो उसका रोज का ही वास्ता था ।
- आपने ही । वह अचानक भय से झुरझुरी लेती हुयी बोली - शायद मुझे उनसे अभी अभी बचाया था ?
प्रसून ने इंकार में सिर हिलाया । उसने दूर विचरते प्रेतों को देखा । और आसमान की ओर उँगली उठा दी - उसने । बहन उसने बचाया है तुझे । सबको बचाने वाला वही है ।
यकायक रत्ना का चेहरा दुख से बिगङ गया । उसके आँसू नहीं आ सकते थे । फ़िर भी प्रसून को लगा । मानों उसका चेहरा आँसुओं में डूबा हो । फ़िर वह भर्राये हुये मासूम स्वर में बोली - और मारने वाला ?
प्रसून को एक झटका सा लगा । कितना बङा सत्य कह रही थी वो । वो सत्य जो उसे जिन्दगी ने दिखाया था । यकायक उसे कोई जबाब न सूझा । शायद जबाब था भी नहीं उसके पास ।
- कितना समय हो गया ? फ़िर वह भावहीन स्वर में बोला ।
- पाँच महीने..से कुछ ज्यादा ।
- और तुम्हारे पति ? वो फ़िर से चिता को देखता हुआ बोला - वो कहाँ हैं ?
अबकी वह फ़फ़क फ़फ़क कर आँसू रहित रोने लगी । प्रसून ने उसे रोने दिया । उसका खाली  हो जाना जरूरी था । वह बहुत देर तक रोती रही । बच्चे उसे रोता हुआ देखकर उसके ही पास आ गये थे । और प्रसून को ही सहमे सहमे से देख रहे थे । प्रसून की समझ में नहीं आ रहा था । वह क्या करे ।
कुछ देर बाद वह चुप हो गयी । प्रसून को इसी का इंतजार था ।  उसने रत्ना से - सुनो बहन कहा । रत्ना ने उसकी तरफ़ देखा । प्रसून ने अपनी झील सी गहरी शान्त आँखें उसकी आँखों में डाल दी । रत्ना 0 शून्य होती चली गयी । शून्य । सिर्फ़ शून्य । शून्य ही शून्य ।

अब उसकी जिन्दगी का पूरा ब्यौरा प्रसून के दिमाग में कापी हो चुका था । वह दुखी जीवात्मा कुछ भी बताने में असमर्थ थी । और प्रसून को उस तरह उससे जानने की जिज्ञासा भी नहीं थी । वह कुछ ही देर में सामान्य हो गयी । उसे एकाएक ऐसा लगा था । मानों गहरी नींद में सो गयी थी । शायद इस नयी अदभुत जिन्दगी में । शायद इस जिन्दगी से पहले भी । उसे ऐसी भरपूर नींद कभी नहीं आयी थी । वह अपने आपको तरोताजा महसूस कर रही थी ।
- कहाँ रहती हो आप । वह स्नेह से बोला - और खाना ?
अब वह लगभग सामान्य थी । प्रसून के कहाँ रहती हो । कहते ही उसकी निगाह खोह नुमा एक ढाय पर गयी । और खाना कहते ही उसने स्वतः ही चिता की तरफ़ देखा । प्रसून उसके दोनों ही मतलब समझ गया । और यहाँ रहने का कारण भी समझ गया ।
- लेकिन । वह फ़िर से बोला - बच्चे । बच्चे क्या खाते हैं ?
उसके चेहरे पर अथाह दुख सा लहराया । स्वतः ही उसकी निगाह त्याज्य मानव मल पर गयी । प्रसून बेबसी से उँगलिया चटकाने लगा । उसके चेहरे पर गहरी पीङा सी जागृत हुयी । सीधा सा मतलब था । उन्होंने बहुत दिनों से अच्छा कुछ भी नहीं खाया था ।
उसने आसपास निगाह डाली । और फ़िर चलता हुआ एक आम के पेङ से पहुँच गया । उसे किसी सूख चुकी आम डाली की तलाश थी । वैसे जमीन पर सूखी लकङियाँ काफ़ी थी । पर वह सिर्फ़ आम की लकङी चाहता था । अन्य लकङियाँ भोजन में कङवाहट मिक्स कर सकती थी । उसने सबसे नीची डाली का चयन किया । और उछलकर उस डाली पर झूल गया । इसके बाद किसी जिमनास्ट चैम्पियन सा वह पेङ की इस डाली से उस डाली पर जाता रहा । और मोबायल टार्च से अन्त में वह सूखी लकङी तोङने में कामयाव हो गया ।
लकङी के सहारे से जलता हुआ मन्दिर का चङावा और उसमें मिक्स शुद्ध घी के खुशबूदार मधुर धुँये से उन तीनों को बेहद तृप्ति महसूस हुयी । शायद मुद्दत के बाद । तब प्रसून के दिल में कुछ शान्ति हुयी ।
उन तीनों को वहीं छोङकर वह उस खोह के पास पहुँचा । उसने एक लकङी से एक अभिमन्त्रित बङा घेरा खोह के आसपास खींचकर उस जगह को बाँध दिया । अब उसमें रत्ना और उसके दो बच्चे ही अन्दर जा सकते थे । अन्य रूहें उस स्थान को पार नहीं कर सकती थी । अतः काफ़ी हद तक रत्ना सुरक्षित और निश्चिन्त रह सकती थी
वह वापस उनके पास आया । उसने रत्ना को कुछ अन्य जरूरी बातें बतायीं । और बँध के बाहर डायनों प्रेतों के द्वारा परेशान करने पर उसे कैसे उससे सम्पर्क जोङना है । कौन सा मन्त्र बोलना है । ये सब बताया । उसने रत्ना को भरपूर दिलासा दी । बङे से बङे प्रेत अब उसके या उसके बच्चों के पास फ़टक भी नहीं पायेंगे ।
रत्ना हैरत से यह सब सुनते देखते रही । जाने क्यों उसे लग रहा था । ये इंसान नहीं है । स्वयँ भगवान ही है । पर अपने आपको प्रकट नहीं करना चाहते । जो हो रहा था । उस पर उसे पूरा विश्वास भी हो रहा था । और नहीं भी हो रहा था कि अचानक ये चमत्कार सा कैसे हो गया ।
प्रसून ने उसे बताया नहीं । लेकिन अब वह अपने स्तर पर पूरा निश्चित था । वह प्रेतों के प्रेत भाव से हमेशा के लिये बच्चों सहित बच चुकी थी । अब बस प्रसून के सामने एक ही काम शेष था । वह उन्हें किसी सही जगह पुनर्जन्म दिलवाने में मदद कर सके । लेकिन ये तो सिर्फ़ रत्ना से जुङा काम था ।
वैसे तो उसे बहुत काम था । बहुत काम । जिसकी अभी शुरूआत भी नहीं हुयी थी । यह ख्याल आते ही उसके चेहरे पर अजीव सी सख्ती नजर आने लगी । और वह - चलता हूँ बहन । कहकर उठ खङा हुआ । रत्ना एकदम हङबङा गयी । उसके चेहरे पर प्रसून के जाने का दुख स्पष्ट नजर आने लगा । वह उसके चरण स्पर्श करने को झुकी । प्रसून तेजी से खुद को बचाता हुआ पीछे हट गया ।
- अब । वह रुँआसी होकर बोली - कब आओगे भैया ?
- जल्द ही । वह भावहीन होकर सख्ती से बोला - तुम्हें । उसने खोह की तरफ़ देखा । त्यागे गये मानव मलों की तरफ़ देखा - किसी सही घर में पहुँचाने के लिये ।
फ़िर वह उनकी तरफ़ देखे बिना तेजी से मु्ङकर एक तरफ़ चल दिया । उसकी आँखें भीग सी रही थी ।

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...