रविवार, अक्तूबर 16, 2011

अंधेरा 18

बूङे के स्वर में दर्द बढता ही जा रहा था । उसके दिमाग में खुद का अतीत गहराने लगा था । ज्यों ज्यों उसके दिमाग में अतीत गहरा रहा था । अन्दर उसका दृश्य स्पष्ट और स्पष्ट होता जा रहा था । तब बाह्य रूप से भी दृश्य भूमि का निर्माण हो रहा था । अन्दर दृश्य का चित्र और उससे पूरी एकाग्रता से चेतना जुङी होने से बाहर उसका आकार लेना । अलौकिक बिज्ञान का एक सामान्य सूत्र था । सफ़ल योग की एक साधारण क्रिया थी । पर सामान्य इंसान इसी को अदभुत विलक्षण चमत्कारिक मानता था ।
जबकि जीवन में ठीक ऐसा ही घटित होता है । पहले अंतर में विचार चित्र बनता है । फ़िर व्यक्ति की चेतना और उसकी कार्य क्षमता के योग से वह चीज आकार लेती हैं । अन्दर बाहर दो नहीं है । एक ही है ।  एक दर्पण में नजर आता है । और एक नजर आने वाला स्वयं है । कैसा अदभुत खेल बनाया । मोह माया में जीव फ़ँसाया ।
आज की रात अदभुत रात थी । कितनी अजीव बात थी । उनका विगत जीवन समय के चक्र से उल्टा घूमता हुआ वापिस आ रहा था । और वे स्वयँ ही उसको नहीं जान सकते थे । प्रसून को बीच बीच में बूङे की करुण पुकार में.. नल्ला.. मेरे लाल.. मेरे सुवना..आ जा..सुनाई देता । बीच बीच में वह दुष्यन्ती भी बोलता था ।
वह सब कुछ शान्ति से देख रहा था । और बङी बेकरारी से प्रतीक्षा भी कर रहा था ।
और तब आधा पौन घण्टा बाद वह क्षण आया । जिसका उसे इन्तजार था । चारूऽऽऽ चारूऽऽऽ चारूलता.. तू कहाँ हैं ? जैसी आवाजें पश्चिम दिशा से आने लगी । वह सावधान हो गया । अगला एक एक पल सचेत रहने का था ।
यहाँ की भूमि में उठने वाला बूङे का याद रूपी बवंडर मध्यम आकार लेने के बाद धीरे धीरे वापिस छोटा हो रहा था । और शून्य 0 होने वाला था । उसका दृश्य इतना ही बनता था । तब उसे पश्चिम दिशा से आता विशाल बवंडर और तूफ़ान नजर आया ।
दरअसल जस्सी को देखकर वह बूङा बिना किसी भाव के प्रयास के विगत भूमि में चला गया था । जैसे दुख आपत्तिकाल में किसी बहुत अपने को अचानक आया देखकर स्वतः रुलाई फ़ूट पङती है । आँसू रुकते नहीं । भाव थमते नहीं । वही हुआ था । अब प्रसून को प्रभु की लीला रहस्य और उसका कारण पता चला था । जस्सी के आने का कारण पता चला था । उसने जस्सी की तरफ़ निगाह डाली । वह चबूतरे पर वापिस मुर्दा सी होकर पङी थी ।
प्रसून को उसकी हालत पता थी । उसने उसके पास जाने की कोई कोशिश नहीं की । बवंडर अपनी तेज गति से उधर ही आ रहा था । और आखिरकार वह सबसे खास पल आ ही गया । जिसका प्रसून को बेसबरी से इन्तजार था । बूङे के अनजाने योग द्वारा अतीत की दृश्य भूमि का निर्माण हो चुका था । और वह स्वयं किसी साक्षी की भांति उस दृश्य भूमि के अन्दर मौजूद था । ठीक यही क्रिया वह पंजाव में जस्सी के साथ करना चाहता था । पर तब नहीं हो पायी थी ।
अब यहाँ एक ही भूमि पर दो दृश्य थे । दो भूमियाँ थी । एक बूङा और उसके घर लोगों आदि वाला वर्तमान दृश्य । और दूसरा बूङे के प्रबल भाव से अतीत में जाने से अतीत के किसी कालखण्ड का दृश्य । बस फ़र्क इतना था । उन लोगों के लिये बस अपना दृश्य ही था । पर प्रसून के लिये अब वहाँ अतीत भूमि भी दृश्यमान थी । और प्रसून अब उसी अतीत में अपने वर्तमान के साथ साक्षी बना खङा था ।

वह एक मनोहारी जंगल था । पर अभी भयानक हो चला था । आसमान में काली काली तेज घटायें घिरी हुयी थी । मूसलाधार बारिश हो रही थी । रह रहकर बिजली कङकङाती थी । जस्सी उर्फ़ दमयन्ती उर्फ़ चारूलता इस तूफ़ान में भटक गयी थी । और बेतहाशा भागती हुयी अपने प्रेमी नल्ला उर्फ़ नल को पुकार रही थी । पर उसकी असहाय पुकार को तूफ़ान बारबार उङा ले जाता था । बहुत हल्की हल्की उसकी पुकार हवा के तेज झोंको के साथ नल्ला तक पहुँचती थी । पर वह आवाज की दिशा का सही अनुमान नहीं लगा पा रहा था ।
पहले वह इधर उधर भागता रहा था । उसके जानवर कुत्ता आदि बिछुङ चुके थे । पर उसे उनकी कोई परवाह नहीं थी । वह सिर्फ़ अपनी चारू को खोजना चाहता था । उसे सिर्फ़ उसी की खास चिन्ता थी ।
वह एक सुन्दर बलिष्ठ शरीर का हट्टा कट्टा नट युवक था । और सिर्फ़ कमर पर अंगोछा लपेटे हुये थे । उसके बालों की लम्बी लटें उसके चेहरे पर चिपक गयी थी ।
तूफ़ान मानों प्रलय ही लाना चाहता था । पर नल्ला को उसकी कोई परवाह नहीं थी । उसने उसी तूफ़ान में अपनी कश्ती दरिया में उतार दी थी । और उछलती बेकाबू लहरों पर नाव पर झुककर खङा सन्तुलन बनाता हुआ अपनी प्यारी चारू को देखता खोजता हुआ तलाश कर रहा था ।
चारू उससे सिर्फ़ कुछ सौ मीटर ही दूर थी । वह उसे देख पा रही थी । और हाथ हिला हिलाकर पुकार रही थी । पर दरिया के घुमाव से वीच में वृक्ष और घनी झाङियाँ बाधक थी । होनी के वशीभूत नल्ला भी अपनी कश्ती को दूसरी तरफ़ विपरीत ही ले जा रहा था । और फ़िर चारू डूबने लगी । गोते खाने लगी ।
उसको चारू चारू..पुकारता हुआ नल्ला उससे दूर और दूर होता जा रहा था ।
प्रसून की आँखें हल्की हल्की भीगने सी लगी थी । उसने सोचा । ये वो दृश्य था । जो जस्सी देखती थी । पर करम कौर से इसका क्या सम्बन्ध था ?
लेकिन करम कौर अभी दूर की बात थी । अभी उसे सिर्फ़ वजह और सबूत मिला था । अभी उसे सब कुछ पता करना था । तभी जस्सी अपने अतीत से छूट सकती थी । बूङे का आधा दृश्य वह देख ही चुका था । जस्सी का वह पूरा दृश्य देख चुका था । अब उसे नल्ला का पता करना था । और ये अब उसके लिये बहुत आसान था । नल्ला की रूह वहाँ योग भावना बवंडर के साथ आयी मौजूद थी । एक मामूली सी प्रेत रूह । वह उसे कैप्चर करने लगा । उस घटना और उस जिन्दगी से जुङा पूरा डाटा उसके पास आता जा रहा था ।
क्या हुआ था । इस विनाशकारी तूफ़ान से पहले ?
वह एक बेहद खूबसूरत दोपहर थी । पर ये कौन सी प्रथ्वी थी । और कितने समय पीछे की घटना थी । उन हालिया परिस्थितियों में जानना उसके लिये सम्भव नहीं था । और ये जानना महत्वपूर्ण भी नहीं था । उसे तो बस तूफ़ान से पहले के क्षणों में दिलचस्पी थी ।
चारू एक खूबसूरत नटनी थी । और नल्ला की प्रेमिका थी । बल्कि एक तरह से मंगेतर भी थी । बस अभी उनकी शादी नहीं हुयी थी । वह नटों में अमीरी हैसियत वाली थी । और चटक मटक कपङे पहनने की शौकीन थी । उसके पुष्ट उरोज कसी चोली से बाहर आने को बेताब से रहते थे । नटों की वेशभूषा में वह उस समय के अनुसार ही चोली और घांघरा पहनती थी । उसके दूधिया गोरे स्तन आधे बाहर ही होते थे । उसकी कमर नटी करतबों के फ़लस्वरूप बेहद लचक वाली और विशाल नितम्ब माँस से लबालब भरे हुये थे । उस समय वह दो चोटियाँ करके उनमें प्राकृतिक फ़ूलों का गजरा बांधती थी ।
नट समुदाय के सभी लङके उसके दीवाने थे । और उससे विवाह करना चाहते थे । पर अकेली वह नल्ला की दीवानी थी । और उसे दिल दे बैठी थी । उसका बाप कहीं लालच में आकर उसका लगन और कहीं ना कर दे । उसने नल्ला से पहले ही अपना कौमार्य भंग कराकर अपने बाप को साफ़ साफ़ बोल दिया था । अब ऐसी हालत में वह कोई चालाकी करता । तो इसे नट समाज के तब कानून अनुसार धोखाधङी माना जाता । और उसे सजा मिलती ।
इसलिये चारू और नल्ला अब निश्चिन्त थे । अब उनके विवाह को भगवान भी नहीं रोक सकता था । फ़ूलों और झाङियों से भरपूर उस जंगल में चारू रंगीन तितली सी इठलाती फ़िर रही थी । और पेङ की डाली पर बैठा बांसुरी बजाता नल्ला उसके थिरकते नितम्बों की लचकन देख रहा था । वह सोच रहा था । आज जंगल से लौटने से पहले वह उसको झाङी में नरम पत्तों पर लिटायेगा । वह कहेगी । बङा बेसबरी हे रे तू । अब तो मैं तेरी ही हो चुकी । मुझे पूरा अभी ही खा जायेगा । या आगे को भी कुछ बाकी रहने देगा ।
- आगे किसने देखा है चारू । तब वह भावुक होकर झूठमूठ बोलेगा - इंसान की जिन्दगी का कोई ठिकाना नही । जवानी के ये दिन हमें भरपूर जीना चाहिये । किसकी जिन्दगी में कब क्या तूफ़ान आ जाये । कोई बता सकता है क्या ?
- देख नल्ला । वह उसके मुँह पर हाथ रखकर कहेगी - तुझे जो करना है । कर ले मेरे साथ । पर ऐसा मत बोल यार । मैं तेरे दस बच्चे पैदा करूँगी । हम लौग सौ वर्ष तक जियेंगे । मैं अपने बच्चों के साथ तेरे लिये जंगल में खाना लेकर आऊँगी । और बोलूँगी - खाना खा लो । मन्नू के बापू । अब आपको भूख लगी होगी ।

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...