रविवार, अप्रैल 01, 2012

कामवासना 12

किसी सुन्दरी के नीले आंचल पर टंके चमकते झिलमिलाते तारों से भरा आसमान भी जैसे यकायक उदास हो चला था । रात में सफ़र करने वाले बगुला पक्षियों की कतार आकाश में उङती हुयी दूर किसी अनजान यात्रा पर जा रही थी । उन दोनों के बीच एक अजीव सी खामोशी छा गयी थी । चुप चुप सी वह जैसे शून्य 0 में देख रही थी ।
क्या है ये औरत ? आखिर उसने सोचा - कोई माया । कोई अनसुलझा बङा रहस्य ? कोई तिलिस्म ।
पर अभी वह अपने ही इस विचार को बल देता कि तभी उसके कानों में भूतकाल भयंकर अट्टाहास करता हुआ बोला - ये कहानी है । सौन्दर्य के तिरस्कार की । चाहत के अपमान की । प्यार के निरादर की । जजबातों पर कुठाराघात की । वह कहता है । मैं माया हूँ । स्त्री माया है । उसका सौन्दर्य मायाजाल है । और ये कहानी बस यही तो है । पर..पर मैं उसको साबित करना चाहती हूँ - मैं माया नहीं हूँ । मैं अभी यही तो साबित कर रही थी । तेरे द्वारा । पर तू फ़ेल हो गया । और तूने मुझे भी फ़ेल करवा दिया । राजीव फ़िर जीत गया । क्योंकि .. वह भयानक स्वर में बोली - क्योंकि तू..तू फ़ँस गया ना । मेरे मायाजाल में । क्योंकि तू..तू फ़ँस गया ना । मेरे मायाजाल में । क्योंकि तू..तू फ़ँस गया ना । मेरे मायाजाल में ।
वह कहता है । मैं माया हूँ । स्त्री माया है ।.. मैं माया हूँ । स्त्री माया है । उसका सौन्दर्य मायाजाल है । पर..पर मैं उसको साबित करना चाहती हूँ - मैं माया नहीं हूँ । पर तू फ़ेल हो गया । तू फ़ेल हो गया । क्योंकि .. क्योंकि तू..तू फ़ँस गया ना । मेरे मायाजाल में ।.. मैं राजीव जी को प्यार करती थी ।.. गलत । टोटल गलत । मुझे लगता है । तुम बिलकुल मूर्ख हो । ..तुम बिलकुल मूर्ख हो ।.. गलत । टोटल गलत ।  सच तो ये है कि मैं राजीव जी को कोई प्यार ही नहीं करती । ..तुम बिलकुल मूर्ख हो । .. मैं राजीव जी को प्यार करती थी ।.. सच तो ये है कि मैं राजीव जी को कोई प्यार ही नहीं करती ।.. दरअसल में तो मैं प्यार का मतलब तक नहीं जानती । ।.. दरअसल में तो मैं प्यार का मतलब तक नहीं जानती । प्यार किस चिङिया का नाम होता है ?  प्यार किस चिङिया का नाम होता है ? ये भी मुझे दूर दूर तक नहीं पता । क्योंकि..क्योंकि.. ?
यकायक उसे तेज चक्कर से आने लगे । उसका सिर तेजी से घूम रहा था । ये परस्पर विरोधाभासी वाक्य उसके दिमाग में गूँजते हुये रह रह कर बार बार भयानक राक्षसी अट्टाहास कर रहे थे । बार बार उसके दिमाग में

विस्फ़ोट हो रहे थे । उसके दिमाग में सैकङों नंग धङंग प्रेत प्रेतनियाँ समूह के समूह प्रकट हो गये थे । एक भयंकर प्रेतक कोलाहल से उसका दिमाग फ़टा जा रहा था ।
और फ़िर अगले कुछ ही क्षणों में उसे अपनी जिन्दगी की भयानक भूल का पहली बार अहसास हुआ । वह भूल जो उसने इस घर में रह कर की थी । - हा हा हा । तभी उसके दिमाग में भूतकाल का जोगी अट्टाहास करता हुआ बोला  -  बन्द गली । बन्द घर । जमीन के नीचे । अंधेरा बन्द कमरा । हा हा हा । एकदम सही पता । वह किसी भयंकर मायाजाल में फ़ँस चुका था ।
अचानक उसकी सुन्दर आँखों में भूखी खूँखार बिल्ली जैसी भयानक चमक पैदा हुयी । उसके रेशमी बाल उलझे और रूखे हो उठे । उसका मोहिनी चेहरा किसी घिनौनी चुङैल के समान बदसूरत हो उठा । वह हूँऽऽ..हूँऽऽ करती हुयी मुँह से फ़ुफ़कारने लगी । उसका सीना तेजी से ऊपर नीचे हो रहा था ।
- इसीलियेऽ तोऽऽ मैं कहतीऽऽ हूँ । वह दाँत पीस कर किटकिटाते हुये रुक रुक कर बोली - कमाल की.. कहानी लिखी है । इस कहानी के.. लेखक ने ।.. कहानीऽऽ जो उसने शुरू कीऽऽ । उसे कैसे.. कोई और कैसे खत्म कर सकता है ?  कहानीऽ जो न तुझसे पढते बन रही है । और न छोङते ।
फ़िर यकायक उसके दिमाग ने काम करना बन्द कर दिया । उसे पदमा के शब्द सुनाई नहीं दे रहे थे । उसका दिमाग फ़टने सा लगा । फ़िर वह लहरा कर बैंच से नीचे गिरा । और अचेत हो गया । उसकी चेतना गहन अंधकार में खोती चली गयी । एक प्रगाढ बेहोशी उस पर छाती चली गयी ।
- आओ मेरे साथ । तभी वह बेहद प्यार से उसका हाथ पकङ कर बोली - चलो । मैं तुम्हें वहाँ ले चलती हूँ । जहाँ जाने के लिये तुम बैचेन हो । बेकरार हो । जिसकी खोज में तुम आये हो ।
मंत्रमुग्ध सा वह उसके साथ ही चलने लगा । पदमा ने उसके गले में हाथ डाल दिया । और बिलकुल उससे सटी

हुयी ही चल रही थी । उसके उन्नत कसे उरोज और मादक बदन उसके शरीर का स्पर्श कर रहे थे । उसके बृह्मचर्य शरीर में काम तरंगों का तेज करेंट सा दौङ रहा था । शीत ज्वर जैसी भयानक ठंडक महसूस करते हुये उसका समूचा बदन थरथर कांप रहा था । वह नशे में धुत किसी शराबी के समान डगमगाते हुये उसके सहारे से चला जा रहा था ।
- ये वस्त्रों का चलन । वह काली अलंकारिक डिजायन वाली पारदर्शी मैक्सी नीचे खिसकाती हुयी बोली - अव्वल दर्जे के मूर्खों ने चलाया है । सोचो । सोचो । यदि सभी...सभी लोग.. स्त्री पुरुष बच्चे बिना वस्त्र होते । तो ये संसार कैसा सुन्दर प्रतीत होता । सभी एक से । कोई भेदभाव नहीं । सभी खुले खुले । कोई छिपाव नहीं । हर स्त्री पुरुष का शरीर ही खुद सबसे बेहतरीन वस्त्र है । ईश्वर की श्रेष्ठतम रचना । फ़िर इसको वस्त्र से आवरित करना उसका अपमान नहीं क्या ?  इसीलिये तो मनुष्य दुख में हैं । वह सदा ही दुखी रहता है । उसने तरह तरह की इच्छाओं के रंग बिरंगे सुन्दर असुन्दर हल्के भारी हजारों लाखों वस्त्रों का बोझा सा लाद रखा है । धन का वस्त्र । शक्ति का वस्त्र । यश का वस्त्र । प्रतिष्ठा का वस्त्र । लोभ का । लालच का । मोह का । मान का । अपमान का । स्वर्ग का । नरक का । जन्म का । मरण का । वस्त्र ही वस्त्र । ये मेरा वस्त्र । ये तेरा वस्त्र ।
- ह हाँ.. हाँ हाँ पदमा जी । वह प्रभावित होकर बोला - तुम ठीक कहती हो । पदमा तुम ठीक कहती हो । हर आदमी बनाबटी झूठ में जीता है । सिर्फ़ तुम सच हो । तुम सच का पूर्ण सौन्दर्य हो ।
- तो फ़िर । उसने मादकता से होंठ काटा । और झंकृत कम्पित बहुत ही धीमे स्वर में मधुर घुंघरू से छनकाती हुयी बोली - उतार क्यों नहीं देते ये झूठे वस्त्र । झूठ को उतार फ़ेंको । और सच को प्रकट होने दो । सच जो हमेशा नंगा होता है । बिना चस्त्र । बिना आवरण । ज्यों का त्यों ।
किसी आज्ञाकारी बालक की भांति वह सम्मोहित सा वस्त्र उतारने लगा । एक । एक । एक करके ।
- किसी प्याज को छीलने की भांति । ज्यों ज्यों नितिन के वस्त्र उतर रहे थे । उसकी चमकती लाल बिल्लौरी आँखों में चमक तेज हो रही  थी । उसके शरीर में रोमांच सा भर उठा था । उसकी सुडौल  छातियाँ तन उठी थी । उसके

अन्दर एक ज्वाला सी जल उठी  थी । फ़िर वह एक एक शब्द को काटती भींचती हुयी सी बोली - हाँ नितिन..किसी प्याज को छीलने की भांति.. देखो । पहले उसका अनुपयोगी छिलका उतर जाता है । फ़िर एक मोटी परत । फ़िर एक बहुत झीनी परत । फ़िर पहले से कम मोटी । फ़िर एक झीनी । फ़िर स्थूल परत । फ़िर सूक्ष्म परत । परत दर परत । और अन्त में कुछ नहीं । हाँ कुछ भी तो नहीं । शून्य 0 । सिर्फ़ शून्य 0 ।
और तब बचते हैं । सिर्फ़ एक स्त्री । और सिर्फ़ एक पुरुष । एक दूसरे को प्यासे अतृप्त देखते हुये । सदियों से । युगों से । आदि सृष्टि से । कामातुर । प्रेमातुर । एक दूसरे में समाने को तत्पर । चेतन और प्रकृति । तुम । वह उसके कटि भाग पर प्यासी निगाह डालती हुयी बोली - तुम चेतन रूप 1 हो । और मैं प्रकृति रूपा शून्य 0 । शून्य 0 । उसने मादकता से बहुत धीमे मधुर स्वर में उँगली से नीचे इशारा करते हुये कहा - तुम देख रहे हो ना - शून्य 0 । 1 और शून्य 0 । बस ये दो ही तो हैं । इसके सिवा और कुछ भी तो नहीं है । 2 3 4 5 6 7 8 9 इनका अपना कोई अस्तित्व नहीं । ये तो उसी 1 का योग होना मात्र ही है । 1 जो तुम हो । 0 जो मैं हूँ । बोलो..नितिन । बोलो । मैं गलत कह रही हूँ ?
- नहीं.कभी नहीं । वह उसको बेहद प्यासी निगाहों से देखता हुआ बोला - तुम सच ही कहती हो । तुम्हारी प्रत्येक बात नंगा सच है । तुम सच की सुन्दर मूरत हो ।
- आऽऽह..। वह तङपती हुयी सी दोनों स्तनों को थाम कर बोली - मैं प्यासी हूँ ।..और और शायद तुम भी । लेकिन नहीं । नहीं आदम । मेरे सदा प्रियतम । तुम ये वर्जित काम फ़ल मत खाना । क्योंकि..क्योंकि ये पाप है । वासना है । कामवासना है । ये पतन का द्वार है । आरम्भ है । स्त्री नरक का द्वार है ।..गाड ने..हमें मना किया है ना । हाँ आदम । भगवान ने मुझे भी कहा - हव्वा ! तू ये फ़ल मत खाना । कभी मत खाना ।
- पर क्यों..क्यों ? वह एक अनजानी आग में जलता हुआ सा वासना युक्त थरथराते स्वर में बोला - क्यों है ये सुन्दर मिलन पाप ? ये पाप है पदमा । तो फ़िर इस पाप को करने की इतनी तीवृ इच्छा क्यों ? ये पाप पुण्य से अच्छा क्यों लगता है ?  ये पाप.. पाप नहीं । पुण्य है । दो युगों से तरसती प्यासी रूहों का मधुर मिलन.. कभी पाप नहीं हो 


सकता । भगवान झूठ बोलता है । वह हमें बहकाना चाहता है । वह नहीं चाहता । आदम हव्वा का मधुर मिलन । मधुर मिलन ।
- आऽऽह ! वह चेहरे को मसलने लगी - मैं प्यासी हूँ ।
- मुझे परवाह नहीं । नितिन उसके सुन्दर प्यासे अंगों को प्यास से देखता हुआ बोला - मुझे चिन्ता नहीं । पाप की । पुण्य की । दण्ड की । पुरस्कार की । स्वर्ग की । नरक की ।..और..और किसी भगवान की भी ।
- तो..तो फ़िर भूल जाओ । वह बाँहें फ़ैलाकर बोली - कि मैं कौन हूँ । तुम कौन हो । जो होता है । होने दो । वह स्वयं होगा । उसको रोकना मत । और .और उसको करना भी मत । ये सुर संगीत खुद बनता है । फ़िर खुद बजता है । इसके गीत राग खुद पैदा होते हैं । मधुर स्वरों से सजे आनन्द गीत । क्योंकि..क्योंकि वही तो सच है । .. प्यास .. प्यास .. तृप्त .. अतृप्त .. तृप्त..अतृप्त ।
ये शब्द किसी स्वयं होती प्रति ध्वनि के समान उस जगह गूँज रहे थे । वह शून्य 0 हो चला था । अब उसे बस 


शून्य 0 नजर आ रहा था । शून्य 0 ।  गोल गोल शून्य 0 । खाली विशाल शून्य 0 । वह इसी शून्य 0 में खो जाना चाहता था । डूब जाना चाहता था । शून्य 0 । सिर्फ़ शून्य 0 ।
वह पूर्ण रूप से होशोहवास खो चुका था । फ़िर वह उस पर भूखे शेर की भांति झपटा । वह  भयभीत हिरनी सी भागी । वह बकरी की भांति मंऽऽमंअं एंऽऽ चिल्लाई । वह बकरे सा मोटे स्वर में मुंऽ अंऽ आंऽ आँऽऽ  मिमियाया । वह घोङी की भांति उछली । वह घोङे की भांति उठा । वह सहमी चिङिया सी उङी । वह बाज की भांति लपका । वह डरी गाय सी रम्भाई । वह बेकाबू पागल सांड सा दौङा । आखिर वह हार गयी । भय से थरथर कांपने लगी । लेकिन उसने पूर्ण क्रूरता से उसे दबोच लिया ।
- आऽह..नहीं..। उसने विनती की  - मर जाऊँगी मैं । छोङ दो मुझे । दया करो आदम । कुछ तो दया करो ।
शून्य 0 ।  गोल गोल शून्य 0 । खाली विशाल शून्य 0 । वह इसी शून्य 0 में खो जाना चाहता था । डूब जाना चाहता था । शून्य 0 । सिर्फ़ शून्य 0 ।
- आऽऽई..ऊऽऽमाँ..ऐसे बेसबर न हो ।...मैं नाजुक हूँ । कांच की हूँ । कली हूँ ।..उईऽऽ..नहींऽऽ आदम..ये क्या कर रहे होऽ तुम ।..धीरे धीरेऽऽ..बहुत..धीरे..छेङो इन सुर तारों को..आऽऽऽऊ आऽह..बहुत दर्द..हो रहा है । नहीं आदम..रहने दो ना ।..मै हव्वा हूँ । तुम्हारी प्यारी हव्वा । सुन्दर हव्वा । फ़िर क्यों निर्दय होते है..आऽऽई.. री माँ ..मर गई.उफ़...बस अब रहने दो ना..। ओऽऽ माँ..नहीं ।..सच्ची आदम ..मर जाऊँगी मैं ..। आऽऽऽ ऽऽईऽऽ ऽईऽ ऽऽऽ ..

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...