रविवार, अप्रैल 01, 2012

कामवासना 13

अचानक ही हङबङा कर उसने आँखें खोल दी । धूप की तेज तपिश से उसे गर्मी सी लग रही थी । वह पसीने में नहाया हुआ था । और बैचेन हो रहा था । उसने घङी में समय देखा । सुबह के दस बजने वाले थे । और वह उसी तरह उस आदमकद बैंच पर लेटा हुआ था । और अब होश में आया था । इसका साफ़ मतलब था । वह रात भर यहीं पङा रहा था । लेकिन क्यों ?
रात में क्या हुआ था ? उसने अपनी स्मृति को एकत्र करते हुये फ़िर से पीछे की यात्रा की । रात बारह बजे । जब वह नीचे जाने का विचार कर रहा था । अचानक पदमा छत पर आ गयी थी । वह उससे बात करती रही थी । तभी अचानक उसे चक्कर आ गया था । और वह नीचे गिर पङा था । इसके बाद उसे कुछ याद नहीं । फ़िर तबसे वह अभी उठा था । अभी ? रात के बारह बजे से अभी । दस बजे । तब इस बीच में क्या हुआ था ? उसने अपनी याद पर जोर डाला । फ़िर बहुत कोशिश करने पर धीरे धीरे उसे वह सब याद आने लगा ।
पदमा उसे सहारा देती हुयी छत से नीचे उतार ले गयी थी । उसने स्पष्ट अपने को उसी घर के जीने से उतरते हुये देखा था । लेकिन उसके बाद यकायक उसकी आँखों के आगे अंधेरा सा हो गया । उसे महसूस हो रहा था । वह जैसे किसी अंधेरी सुरंग में उतरता जा रहा है । काला स्याह । घोर घनघोर अंधेरा । उसे सहारा देती हुयी पदमा उसके साथ सीढियाँ उतरती जा रही थी । कोई अज्ञात सीढियाँ । फ़िर सीढियाँ भी खत्म हो गयीं । और वे समतल जमीन पर आ गये । तब यकायक वहाँ हल्का सा प्रकाश हो गया । उसने देखा । मादकता से मुस्कराती हुयी पदमा स्विच के पास खङी थी । उसने ही वह बल्ब जलाया था । जिसका मटमैला प्रकाश कमरे में फ़ैल गया था ।
कमरा । उसके दिमाग में अचानक विस्फ़ोट हुआ - जमीन के नीचे । अंधेरा बन्द कमरा । हाँ वही तो था वह । एक बङे हाल जैसा भूमिगत कक्ष । लगभग खाली सा साफ़ कमरा । जिसमें बाकायदा दो अलग अलग बेड थे । कुछ अजीव सी धुंधली तस्वीरें दीवालों पर ।
- प्यारे आदम । सम्भोग के बाद निढाल सी पङी वह अधमुँदी आखों से बोली - कैसा था यह वर्जित फ़ल ? अच्छा ना ।
पर अब वह जाने क्यों ठगा सा महसूस कर रहा था । जैसे कुछ सही सा नहीं हुआ था । उसे वह सुन्दर औरत । सौन्दर्य की देवी । जाने क्यों ठगिनी सी नजर आ रही थी । ठगिनी । जिसने उसका सब कुछ लूट लिया था । उसका वह बेमिसाल सौन्दर्य । अब उसे फ़ीका लग रहा था । उसके सब अंग । रंग हीन लग रहे थे । रस टपकाता यौवन । अब एकदम नीरस लग रहा था ।

- ऐसा ही होता है । वह कोहनी के सहारे टिकती हुयी पूर्ववत ही अपने विशेष अन्दाज में धीरे से बोली - मैं तुम्हारे दिल की आवाज सुन सकती हूँ । तुम सब मर्द । एक जैसे ही होते हो । स्वार्थी भंवरे । सिर्फ़ रस चूसने से मतलब रखने वाले । तब मैं सौन्दर्य की देवी नजर आ रही थी । और तुम मेरे पुजारी थे । क्योंकि तुम मेरा रसास्वादन करना चाहते थे । अब तुम रस चूस चुके । तब मैं फ़ीकी लगने लगी । तुम खुद को ठगा महसूस कर रहे हो । मुझे बताओ आदम । तुम लुटे । या मैं लुटी ? मैंने तो अपना सर्वस्व समर्पण कर दिया । मैंने तुम्हारा पुरुष प्रहार सहा ।  प्रेम क्रूरता सही । मैं दया दया करती रही । की तुमने कोई दया ?  फ़िर तुम ऐसा क्यों सोचते हो । जो हुआ । सो अच्छा नहीं हुआ । और उसकी दोषी मैं हूँ । सिर्फ़ मैं ।
हर पुरुष जीवन की यही कहानी है । पहले तुम स्त्री के लिये लालायित होते हो । उसे भोगते हो । चूसते हो । फ़िर उसे लात मार देना चाहते हो । क्योंकि भोगी हुयी स्त्री तुम्हारे लिये रसहीन सी हो जाती है । बे स्वाद । मुर्दा । निर्जीव ।
कमाल की औरत थी । उसने सोचा । शायद दूर से खींचने की शक्ति थी इसके पास । धूप और तेज हो उठी  थी । वह टहलता हुआ सा उठा । और नीचे आंगन में झांकने लगा । पर अभी वहाँ कोई नहीं था । हल्की सी खट पट कहीं अन्दर से आ रही थी । हाँ । दूर से ही खींच लेने वाली मायावी औरत ही थी ये । तभी तो ये शमशान से यहाँ तक खींच लायी थी । खींचा ही तो था इसने । वरना कहाँ थी ये वहाँ ?
वह इसको हल करने आया था । उसने हल को ही सवाल बना दिया । उसने झटके से सिर को तीन चार बार हिलाया । और आगे के बारे में सोचा । उसे इस मायावी औरत के चक्कर में नहीं पङना चाहिये । और फ़ौरन यहाँ से चला जाना चाहिये । लेकिन क्यों ? क्यों ?
यदि वह एक औरत से हार जाता है । उसकी माया से डर जाता है । फ़िर उसका तंत्र मंत्र रुझान तो व्यर्थ है ही । उसका सामान्य मनुष्य होना भी धिक्कार है । दूसरे वह कुछ विचलित होता था । थोङा डगमाता भी था ।

तभी वह उसके अन्दर बोलने लगती - क्या कमाल की कहानी लिखी । इस कहानी के लेखक ने । कहानी जो उसने शुरू की । उसे कोई और कैसे खत्म कर सकता है । इसीलिये..इसीलिये ये कहानी न तुमसे पढते बन रही है । न छोङते । ये बच्चों का खेल नहीं नितिन ।
- बोलो । वह फ़िर बोली - मुझे जबाब दो । क्या गलती है औरत की । क्या प्यासी सिर्फ़ औरत है ? पुरुष नहीं ।
पर वह कुछ न बोल सका । इस औरत के शब्दों में वह जादू था । जिसके लिये कोई शब्द ही न थे । फ़िर क्या बोलता वह । ऐसा लग रहा था । कुछ गलत भी न थी वह ।
- रहने दो । वह जैसे उसे मुक्त करती हुयी बोली - शायद कुछ प्रश्नों के उत्तर ही नहीं होते । अगर उत्तर होते । तो औरत पुरुष के बराबर न होती । फ़िर उसकी दासी क्यों होती ? चलो । मैं तुम्हें कुछ अलग दिखाती हूँ ।
वह एकदम हैरान सा रह गया । अब ये क्या दिखाने वाली है ? वह उसी मादकता मिश्रित शालीनता से उठी । और उसके पास आ गयी । उसने अपनी लम्बी पतली गोरी बाँहें उसके गले में डाल दी । और बेतहाशा उसके होठ चूमने लगी । जैसे नागिन बदन से लिपटी हो । और जैसे विषकन्या होठों से चिपकी हो । नशे से उसका सिर तेजी से घूमने लगा । दिमाग के अन्दर गोल पहिया सा तेजी से चक्कर काटने लगा । फ़िर वह दोनों चिपकी हुयी अवस्था में ही ऊपर उठने लगे । उनके पैर जमीन से उखङ चुके थे । और वह किसी मामूले तिनके के समान तूफ़ान में उसके साथ ही उढता हुआ दूर जंगल में जा गिरा ।
वाकई उसने फ़िर सच कहा था - चलो । मैं तुम्हें कुछ अलग दिखाती हूँ ।
यह एक अजीव जंगल था । बहुत ही ऊँचे ऊँचे विशाल घने पेङों की भरमार थी उसमें । चमकते सूर्य की रोशनी का कहीं नामोनिशान नहीं था । धुंधला मटमैला पीला मन्द प्रकाश ही फ़ैला था वहाँ । उस जंगल में भीङ की भीङ

असंख्य पूर्ण नग्न स्त्री पुरुष मौन विचरण कर रहे थे । सिर्फ़ 30 आयु के लगभग स्त्री पुरुष । न वहाँ कोई बच्चा था । न कोई बूढा था । न कोई सुन्दर था । न कोई बदसूरत था । न वहाँ कोई रोगी था । न वहाँ कोई स्वस्थ भी था । जो भी था । सामान्य था । और सब तरह से आवरण हीन । खुला खुला ।
वह हैरत से उन्हें देखता रहा । वे आपस में बिलकुल न बोल रहे थे । और धीमे धीमे कदमों से इधर उधर चल रहे थे । कुछ जोङे आपस में एक दूसरे को चूम रहे थे । कुछ सम्भोग रत थे । कुछ निढाल से पङे थे । कुछ हताश से खङे थे । वे मुर्दा आँखों से बिना उद्देश्य सामने देखते थे । उनमें से कोई भी उनकी  तरफ़ आकर्षित नहीं हुआ । वे दोनों एक ऊँची पहाढी पर बैठे थे । और उसी स्थान अनुसार पूर्णतः नग्न थे ।
- ये एक विशेष मण्डल है । वह जैसे मौन की भाषा में उसके दिमाग में बोली - जिसे अंग्रेजी में zone कहते हैं । ये न प्रथ्वी है । न कोई और ग्रह नक्षत्र । न ही कोई अन्य प्रथ्वी । और न ही अन्य सृष्टि । यहाँ जो यन्त्र  तुम देख रहे हो । मेरी बात पर गौर करो - यन्त्र । ये शरीर नजर आ रहे हैं । पर वास्तव में ये यन्त्र है । खास बात ये है कि ये एक कवर्ड एरिया है । यहाँ अंतरिक्षीय शब्द से उत्पन्न वायव्रेशन प्रथ्वी की तरह सीधा नहीं आता । बल्कि रूपान्तरण होकर बिलकुल क्षीण बहुत मामूली सा आता है ।

और इसी बिज्ञान नियम की वजह से ये या हम लोग यहाँ वाणी से बोल नहीं सकते । यहाँ सिर्फ़ मौन के शब्द ही बनते हैं । प्रथ्वी की तरह तेज चल भाग भी नहीं सकते । संक्षिप्त में स्थूल शरीर की बहुत सी क्रियायें नहीं कर सकते । ये सूर्य आदि तारों का प्रकाश यहाँ कम होने की वजह भी यही है ।
फ़िर तुम सोच रहे होगे । ये लोग हैं कौन ?  ये हमारी आंतरिक और यांत्रिक कामवासना का रूप है । या आकार है । बङा जटिल है इसको समझना । पर मैं समझाने की कोशिश करती हूँ । शायद तुम समझ जाओ ।
अब नीचे हलचल कुछ तेज होने लगी थी । पर वह तो जैसे पागल हो गया था । मिथक कथायें । एलियन स्टोरीज सभी की तरह उसने सुनी पढी भर थी । पर वे यहीं जीवन में भी हो सकती थीं । ये कल्पना ही कठिन थी । एक मामूली भूत प्रेत जिज्ञासा ऐसी भयंकर या

दिलचस्प यात्रा का कारण हो सकती है । बिना अनुभवी स्वयंम्भी हुये वह सोच भी नहीं सकता था । शायद कोई भी विश्वास ही न करे । एक साधारण गृहस्थ इंसान के घर में इतना रहस्य छिपा हो सकता है । उसकी सुन्दर स्त्री इतनी मायावी हो सकती है । अच्छे से अच्छा बुद्धिजीवी भी शायद नहीं सोच सकता । इम्पासिबल । असंभव ।
अभी वह फ़िर से पिछली घटना के तार जोङने की और उसका तारतम्य समझने की कोशिश कर रहा था । तभी उसे जीने पर आते कदमों की आहट सुनाई दी । और स्वाभाविक ही उसका समूचा ध्यान उधर ही केन्द्रित हो गया । अब क्या होने वाला था । क्या कुछ और नया ? अफ़लातूनी ? अगङम बगङम सा ।

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...