रविवार, अप्रैल 01, 2012

कामवासना 17

रात के आठ से ऊपर हो चले थे । वह शान्ति से अपने कमरे में बन्द था । और उसने दरवाजा अन्दर से लगाया हुआ था । वास्तव में यही समय था उसके पास । जब उनमें से कोई उसे डिस्टर्ब न करता । वे लोग इस समय टी वी के सामने बैठे हुये भोजन आदि में लगे होते थे । पदमा खाना तैयार करने जैसे कामों में व्यस्त हो जाती ।
वह जमीन पर बैठा था । और एक छोटी कटोरी का दीपक जैसा इस्तेमाल करते हुये उसमें जलती मोटी बाती को अनवरत अपलक देख रहा था । प्रेत दीपक । आज ही उसे ऐसा समय भी मिला था । और आज ही वह इस घर को और इसके घरवालों को कुछ कुछ समझ भी पाया था ।
उस मोटी बाती की रहस्यमय सी चौङी लौ किसी कमल पुष्प की पंखरी के समान ऊपर को उठती हुयी जल रही थी । और वह उसी बाती की लौ के बीच में गौर से देख रहा था । जहाँ काली काली छाया आकृतियाँ कुछ सेकेंड में बनती । और फ़िर लुप्त हो जाती । वह किसी बिज्ञान के छात्र की भांति सावधानी सतर्कता से उसका अध्ययन करता रहा । और अन्त में सन्तुष्ट हो गया । उसने एक कागज पर मन्त्र जैसा कुछ लिखा । उस कागज को पानी में डुबोया । और फ़िर उसी पानी में उँगली डुबोकर हल्के हल्के छींटे उस लौ में मारने लगा । अचानक उसके दरवाजे पर दस्तक हुयी । वह हौले से मुस्कराया । दरवाजे पर पदमा खङी थी ।
- अब और क्या चाहते हो ? वह व्याकुल स्वर में बोली - किसी की शान्ति में खलल डालना अच्छा नहीं ।
उसने बाहर की तरफ़ देखा । दोनों भाई शायद अन्दर ही थे । उसने कमरा बन्द कर दिया । और टहलता हुआ सा छत पर आ गया । उसने घङी देखी । नौ बजने वाले थे । कुछ सोचता हुआ सा वह विचार मग्न फ़िर बैंच पर लेट गया ।
- एक औरत । आंगन में फ़ूलों की क्यारी के पास उससे अभिसार करती हुयी पदमा अपने चेहरे पर लटक आये बालों को पीछे झटकती हुयी बोली - के अन्दर क्या क्या भरा है । क्या क्या मचल रहा है ? उसके क्या  क्या

अरमान है । इसको जानने समझने की कोशिश कोई कभी नहीं करता । इस तरह उसकी तमाम उन्मुक्त इच्छायें दमित होती रहती हैं । तब इसकी हद पार हो जाने पर मधुर मनोहर इच्छाओं की लतायें विष बेल में बदल जाती है । और फ़िर अंग अंग से मीठा शहद टपकाती वह सुन्दर माधुरी औरत जहरीली नागिन सी बन जाती है । जहरीली नागिन । पुरुष को डसने को आतुर । जहरीली नागिन ।
लेकिन उसकी दमित इच्छाओं से हुये रूपान्तरण का यही अन्त नहीं है । क्योंकि वह जहर पहले तो खुद उसको ही जलाता है । और तब उस आग में जलती हुयी वो हो जाती है - चुङैल ..प्यासी चुङैल .. अतृप्त .. अतृप्त ।
- लेकिन । भूतकाल का मनसा फ़िर बोला - यदि उस आवेश को प्रोत्साहित करते हुये उसका दर बङाते चले जाओ । तब वे असामान्य लक्षण तुम्हें स्पष्ट महसूस होंगे । साफ़ साफ़ दिखाई देंगे ।
हुँऽऽ ..हुँऽ.. की तेज फ़ुफ़कार सी मारती हुयी वह विकृत मुख होने लगी । एक अजीव सी तेज मुर्दानी बदबू उसके आसपास फ़ैल गयी । जैसे कोई मुर्दा सङ रहा हो । उसकी आँखों में एक खौफ़नाक बिल्लौरी चमक की चिंगारी सी फ़ूट रही थी । पहले सुन्दर दिखाई देते लेकिन अब उसके भयानक हो चुके मुख से बदबू के तेज भभूके छूट रहे थे । वह इतनी घिनौनी हो उठी थी कि देखना मुश्किल था ।
- हुँऽऽ..। वह खौफ़नाक स्वर में दाँत भींचते हुये बोली - प्यासी चुङैल ।
यह बङा ही नाजुक क्षण था । एक सफ़ल पूर्ण आवेश । उसे ऐसी स्थिति का कोई पूर्व अनुभव नहीं था । और आगे अचानक क्या स्थिति बन सकती है । यह भी वह नहीं जानता था । पर एक बात जो साधारण इंसान भी ऐसी स्थिति में ठीक से समझ सकता था । वही तुरन्त उसके दिमाग में आयी । नयी स्थिति को सहयोग करना । आगन्तुक की इच्छा अनुसार ।
उसने चुङैल के मुँह और शरीर से छूटते बदबूदार भभूकों की कोई परवाह न की । और यकायक उसे बाहों में लिये ही खङा हो गया । उसे केवल एक डर था । अचानक कोई आ न जाये । पर वह उसकी परवाह करता । तो फ़िर वह 


स्थिति कभी भी हो सकती थी । तब इस आपरेशन को करना आसान न था ।
नितिन का ध्यान फ़िर से उसके शब्दों पर गया - इस तरह उसकी तमाम उन्मुक्त इच्छायें दमित होती रहती हैं । तब इसकी हद पार हो जाने पर मधुर मनोहर इच्छाओं की लतायें विष बेल में बदल जाती है । और फ़िर अंग अंग से मीठा शहद टपकाती वह सुन्दर माधुरी औरत जहरीली नागिन सी बन जाती है । जहरीली नागिन । .. लेकिन उसकी दमित इच्छाओं से हुये रूपान्तरण का यही अन्त नहीं है । क्योंकि वह जहर पहले तो खुद उसको ही जलाता है । और तब उस आग में जलती हुयी वो हो जाती है - चुङैल ..प्यासी चुङैल .. अतृप्त .. अतृप्त ।
दमित काम इच्छायें । उसने उस अजनवी स्त्री को कस कर अपने साथ लगा लिया । और उसके समस्त बुरे रूपान्तरण को नजर अन्दाज सा करता हुआ वह उसके फ़ैले नितम्बों पर हाथ फ़िराने लगा । वह नागिन के समान भयंकर रूप से फ़ूँ फ़ूँ कर रही थी । और अब खुरदरी हो चुकी जीभ को लपलपाती हुयी उसको जगह जगह चाट सी रही थी । तब वह किसी अनुभवी के समान उसके राख से पुते से झुरझुरे स्तनों से खेलने लगा ।
- ठीक है । आखिर कुछ देर बाद वह सन्तुष्ट सी होकर बोली - क्या चाहते हो तुम ?
क्या चाहता था वह ? उसने सोचा । शायद कुछ भी नहीं । जीवन के इस रंगमंच पर कैसे कैसे अजीव खेल घटित हो रहे हैं । इसको शायद तमाम लोग कभी नहीं जान पाते । एक आम आदमी शायद इससे  ज्यादा कभी नहीं सोच पाता । पहले जन्म हुआ । फ़िर बालपन । फ़िर लङकपन । युवावस्था । जवानी । अधेङ । बुढापा । और अन्त में मृत्यु । और फ़िर शायद यही चक्र ? शायद ? किसी बिज्ञान की किताब में दर्शाये जीवन चक्र के गोलाकार चित्र सा । इसके साथ ही आयु की इन्हीं अवस्थाओं के अवस्था अनुसार ही जीवन व्यवहार । और तेरा मेरा का व्यापार । बस हर इंसान को लगता है । जैसे सिर्फ़ यही सच है । इतना ही । जैसे सिर्फ़ इतनी ही बात है । ऐसी ही व्यवस्था की गयी है । ऊपर आसमान पर बैठे किसी अज्ञात से ईश्वर द्वारा । लेकिन तब । तब फ़िर इस जीवन का मतलब क्या है ? और अगर जीवन का यही निश्चित चित्र निश्चित कृम निर्धारित है । फ़िर तमाम मनुष्यों के जीवन में ऊँच नीच सुख दुख अमीर गरीब स्वस्थ रोगी आदि जैसी भारी असमानतायें विसमतायें क्यों ?
- बस यही । वह पूर्ण सरलता मधुरता से साधारण स्वर में ही बोला - कौन हो तुम ?
- दो बदन । उसने एक झटके से कहा ।
दो बदन । उसने बैंच पर लेटे लेटे ही अधलेटा होकर एक सिगरेट सुलगायी । एक और नयी बात । वह उसके आगे बोलने की तेजी से प्रतीक्षा कर रहा था कि अचानक वह वापिस रूपान्तरित होकर सामान्य होने लगी । वह एकदम हङबङा गया । और तेजी से उसके गाल थपथपाने लगा । पर वह जैसे नींद में बेहोश सी होती हुयी उसकी बाँहों में

झूल गयी । जैसे पूरा बना बनाया खेल चौपट हो गया । एक और मुसीबत । उसने तेजी से उसे कपङे पहनाये । और खुद को व्यवस्थित कर उसे पलंग पर लिटा आया ।
दो बदन । रह रह कर यह शब्द उसके दिमाग में गूँज रहा था । क्या मतलब हो सकता है इसका ? वह बहुत देर सोचता रहा । पर उसकी समझ में कुछ न आया । तब वह पेट के बल लेट कर सङक पर जलती मरकरी को फ़ालतू में ही देखने लगा । उसे एक बात में खासी दिलचस्पी थी । जमीन के नीचे । अंधेरा बन्द कमरा । पर ये कमरा कहाँ था ? ये पता करने का कोई तरीका उसे समझ में न आ रहा था । जाने क्यों उसे लग रहा था । इस पूरे झमेले के तार उसी कमरे से जुङे हुये हैं । या हो सकते हैं । उस कमरे का एक स्पष्ट चित्र उसके दिमाग में था । पूरी तरह याद था । कमरा सामान्य बङे भूमिगत कक्ष जैसा ही था । पर जाने क्यों उसे रहस्यमय लगा था । जाने क्यों । जैसी रहस्यमय वह औरत थी । पदमा ।
सोचते सोचते उसका दिमाग झनझनाने लगा । तब  वह उठकर छत पर ही टहलने लगा । समय दस से ऊपर हो

रहा था । उसने एक निगाह बङे तखत पर रखे तकिया चादर पर डाली । जिन्हें वह साथ ही लाया था । क्या अजीव बात थी । जो वाकया कल यकायक उसके साथ घटा था । आज वह उसके फ़िर से होने के ख्वाव देख रहा था । बल्कि कहो । उस स्थिति को खुद क्रियेट कर रहा था । और उसके लिये उसे पदमा के ऊपर आने की सख्त आवश्यकता थी । पर क्या वो आयेगी ? शायद आये । शायद न आये । लेकिन जाने क्यों बार बार उसका दिल कह रहा था । वह आयेगी । और जरूर आयेगी । और वह इसी बात का तो इंतजार कर रहा था ।
तभी अचानक घुप अंधेरा हो गया । यकायक उसकी समझ में नहीं आया कि ये अक्समात क्या हो गया । लेकिन अगले ही क्षण वह समझ गया । बिजली चली गयी थी । और मरकरी बुझ गयी थी । शायद अंधेरा पक्ष शुरू हो गया था । रात बेहद काली काली सी हो रही थी ।
शायद ये सच है । इंसान जो सोचता है । वैसा कभी होता नहीं है । और जो वह नहीं सोचता । वह अक्सर ही हो जाता है । यदि सोचा हुआ ही होने लगे । तब जिन्दगी शायद इतनी रहस्यमय न लगे ।  सोची सोच न होवई । जे सोची लख बार । उसने एक गहरी सांस ली । और फ़िर कब उसे नींद आ गयी । उसे पता ही न चला ।
यकायक अपने बदन पर रेंगते नाजुक मुलायम स्त्री हाथों से उसकी चेतना सी लौटी । वह उसके पैरों के आसपास हाथ फ़िरा रही थी । वह सोये रहने का बहाना किये रहा । वह हाथ को उसके पेंट के अन्दर ले गयी ।

- ऐऽऽ जागोऽ ना । वह उसके कानों में फ़ुसफ़ुसाई - फ़िर मेरा इंतजार क्यों कर रहे थे । लो मैं आ गयी । मैं जानती थी तुम्हारे मन की बात कि तुम भी बहुत बैचेन हो मेरे लिये ।
- तुम्हें । वह कुछ घबराये से स्वर में बोला - बिलकुल भी डर नहीं लगता । उनमें से कोई आ जाये तब ?
- जलती जवानी की एक एक रात । वह उसके ऊपर होती हुयी थरथराते स्वर में बोली - बेहद कीमती होती है । इसे ये वो किन्तु परन्तु में नष्ट नहीं करना चाहिये । तुम उनकी फ़िक्र न करो । क्योंकि तुम नहीं जानते । वे कमजोर थके घोङे से घोङे बेच कर सोते हैं । मनोज चरस का नशा भी कर लेता है । और अनुराग भी थकान दूर करने को ड्रिंक करता है । इसलिये वे अक्सर जागते हुये भी सोये से ही रहते हैं ।
- अधिकतर प्रेत बाधाओं का कारण । भूतकाल का मनसा प्रकट सा हुआ - या इंसान का प्रेत योनि में चले जाने का कारण । उसकी अतृप्त या दमित इच्छायें ही अधिक होती हैं । अतृप्त काम वासना । बदले की आग । किसी कमजोर पर ताकतवर का जबरदस्ती का जुल्म । दूसरे के धन पर निगाह । जान बूझ कर किये किसी गलत कर्म का बाद में घोर पश्चाताप होना आदि कारण ऐसे हैं । जो प्राप्त आयु को भी स्वाभाविक ही तेजी से क्षीण करते हैं । घटा देते हैं । और इंसान अपने उसी नीच कर्म के संजाल में लिपटता चला जाता है ।  ये स्थितियाँ प्रेतत्व को आमंत्रित करती हैं । और वास्तव में इंसान मरने से पूर्व ही जीवित शरीर में ही प्रेत होना शुरू हो जाता है । प्रेतों के लिये भूत शब्द का खास इसीलिये प्रचलन है कि उसके भूतकाल की कहानी । भूतकाल का परिणाम ।
उसके भूतकाल की कहानी । नितिन जैसे अचानक सचेत हुआ  । यदि तुम इस रहस्य को वाकई जानना चाहते हो । उसके कानों में अपने गुरु की सलाह फ़िर गूँजी - तो पहले तुम्हें उसके भूतकाल को जानना होगा ।
- पदमा जी ! उसे खुश रखने के उद्देश्य से वह उसकी नंगी पीट को सहलाता हुआ बोला - आपने कई बार अपने प्रेम या प्रेमी का जिक्र किया है । मेरी बङी उत्सुकता है कि वह कहानी क्या थी । जो उस पागल इंसान ने आप जैसी अति रूपसी की उपेक्षा की ।
- भूतकाल । वह धीमे से उसी विशेष स्वर में बोली - भूतकाल को.. छोङो । जो बीत गया । उसे छोङो । सेक्स .सेक्स..सिर्फ़ सेक्स । एक भरपूर जवान और अति सुन्दर औरत इस तन्हा काली रात में खुद चलकर तुम्हारे पहलू में आयी है । और तुम बासी कहानियों को पढना चाहते हो । कोई नयी कहानी लिखो ना । कोई नया मधुर गीत । मेरे रसीले होठों पर । पर्वत शिखर से वक्षो पर । गहरी खाई सी मेरी नाभि पर । नागिन सी बलखाती कमर पर । फ़िसलन भरी योनि की घाटियों पर । काली घटाओं सी जुल्फ़ों पर । देखो..मेरा हर अंग एक सुन्दर रंगीली नशीली कविता जैसा ही तो है ।

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...